Home Dhanda Pani इंश्योरेंस बिजनेस में भारत का स्थान 10वां | Understanding India’s Insurance Industry

इंश्योरेंस बिजनेस में भारत का स्थान 10वां | Understanding India’s Insurance Industry

0 comment
Understanding India's Insurance Industry

भाईसाब, क्या आपको पता है, दुनिया भर में इंश्योरेंस बिजनेस के हिसाब से भारत का स्थान 10वां हो गया है, 2021 में भारत की बाजार हिस्सेदारी 1.78 से बढ़ कर 1.85 फीसदी हो गई थी, यही नहीं इस साल इंश्योरेंस प्रीमियम में भी 13.46 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई। भाईसाब, भारत वैसे चुनिंदा देशों में शामिल है जहां बीमा प्रीमियम पर 18 फीसदी की जीएसटी वसूली जाती है, IRDAI की एनुअल रिपोर्ट के मुताबिक भारत में इस समय बीमा की पहुंच महज 6 फीसदी लोगों तक ही है, लाइफ इंश्योरेंस में तो यह 3 फीसदी है जबकि नॉन-लाइफ इंश्योरेंस में तो यह 1 फीसदी ही है।

भाईसाब, आपको बताना जरूरी है कि दुनियाभर में महज 7 फीसदी लोगों तक बीमा की पहुंच है, वहीं भारत में परंपरागत तरीके से लाइफ इंश्योरेंस की भारी भागीदारी रही है, साल 2021 के दौरान में लाइफ इंश्योरेंस की हिस्सेदारी 76 फीसदी थी जबकि दुनिया भर में लाइफ इंश्योरेंस की हिस्सेदारी महज 43.7 फीसदी ही है, भाईसाब, बता दें कि इस पर संसद की एक कमेटी ने भी ऐतराज जताया है, कमिटी ने कहा है कि इंश्योरेंस प्रोडक्ट़्स पर GST को तर्कसंगत बनाने की आवश्यकता है। भाईसाब, आपको बताना जरूरी है कि बीमा क्षेत्र के नियामक IRDAI के एनुअल रिपोर्ट 2021-22 के मुताबिक भारत में बीमा का कारोबार बढ़ रहा है, साल 2020 के दौरान भारत दुनिया भर के इंश्योरेंस बिजनेस में 11वां स्थान रखता था, लेकिन साल 2021 में यह सुधर कर 10वें स्थान पर आ गया, यही नहीं, भारत की बाजार हिस्सेदारी भी साल 2020 में 1.78 के मुकाबले साल 2021 में सुधर कर 1.85 हो गई है, भारत में साल 2021 के दौरान कुल इंश्योरेंस प्रीमियम में 13.46 फीसदी की बढ़ोतरी हुई, यह भी तब जबकि रीयल ग्रोथ में 7.8 फीसदी इंफ्लेशन को एडजस्ट किया गया। वहीं 2023 में इंश्योरेंस प्रीमियम में 9.04 फीसदी की ही बढ़ोतरी हुई थी। भाईसाब, आपको मालूम होना चाहिए कि केंद्र सरकार में वित्त राज्यमंत्री रहे जयंत सिन्हा की अध्यक्षता में संसद में फाइनेंस पर एक स्थाई समिति सिफारिश की है कि इंश्योरेंस प्रॉडक्ट, विशेष रूप से हेल्थ और टर्म इंश्योरेंस पर जीएसटी को तर्कसंगत बनाया जाए, कमिटी ने यह भी सुझाव दिया है कि सरकार की तरफ से भारतीय रिजर्व बैंक बीमा इंडस्ट्री की पूंजी जरूरतों को पूरा करने के लिए ‘ऑन- टैप बॉन्ड जारी कर सकता है, जो 40- 50,000 करोड़ रुपये पर आंका गया है, कमिटी ने अपनी सिफारिशों में कहा कि यह बात सामने आई है कि High GST रेट के कारण प्रीमियम की रेट ज्यादा हो जाती है।

चलते-चलते, भाईसाब, चाहे लाइफ इंश्योरेंस की बात करें या नॉन लाइफ या जनरल इंश्योरेंस की, सभी के प्रीमियम पर GST की दर 18% है, तभी तो संसद की स्थायी समिति ने सिफारिश की है कि हेल्थ बीमा प्रॉडक्ट, विशेष रूप से सीनियर सिटोजन के लिए रिटेल पॉलिसियों और माइक्रोइन्श्योरेंस पॉलिसियों और टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी पर GST रेट को कम किया जा सकता है।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.