Home Haal-khayal कुछ पुरुष घरेलू हिंसा क्यों करते हैं | Understanding Domestic Violence

कुछ पुरुष घरेलू हिंसा क्यों करते हैं | Understanding Domestic Violence

0 comment
Discover why domestic violence happens and how to stop it. Explore practical ways to prevent abuse and create safer homes. Learn about the factors influencing domestic violence and find effective solutions

भाईसाब, एक बड़ा सवाल पूरी दुनिया में उठ रहा है कि कुछ पुरुष आखिर घरेलू हिंसा क्यों करते हैं, मनोवैज्ञानिक शोध में लगे हैं कि इसके पीछे का कारण क्या है? कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि पीछे का कारण आघात और सामाजिक अलगाव भी हो सकता है, वहीं मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि घरेलू हिंसा से पीड़ित लोगों के लिए समर्थन महत्वपूर्ण है, लेकिन घरेलू हिंसा को हमेशा के लिए समाप्त करने के वास्ते समाज को उन लोगों को समझने की जरूरत है जो इसे अंजाम देते हैं।

भारत में ही नहीं अमेरिका में भी घरेलू हिंसा की घटनाएं बहुत आम हैं, अमेरिका में महिलाओं और पुरुषों में से लगभग आधे लोगों को अपने जीवनकाल के दौरान यौन और शारीरिक हिंसा, पीछा करने और मनोवैज्ञानिक दबाव का सामना करना पड़ता है। भाईसाब, अमेरिकी लोगों के बीच घरेलू हिंसा की घटनाएं अब आम हो गई हैं, वहीं युवा लोग सबसे अधिक असुरक्षित हैं, लगभग तीन-चौथाई पीड़ित महिलाओं का कहना है कि उन्हें घरेलू हिंसा का सामना 25 वर्ष की आयु से पहले करना पड़ा था, भाईसाब, 10 साल तक किये गये एक अध्ययन के अनुसार पुरुष अपने साथियों के खिलाफ हिंसा का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि उनकी हिंसा का प्रभाव अकसर सबसे गंभीर होता है, शोध में पाया गया है कि घरेलू हिंसा को रोकने के लिए आशाजनक दृष्टिकोण हैं, जैसे घरेलू हिंसा की जड़ें क्या है? भाईसाब, सबसे पहले हिंसा को रोकने के लिए यह समझना आवश्यक है कि कोई व्यक्ति हिंसा कैसे करता है, बचपन के कुछ अनुभव भी लोगों को भविष्य में घरेलू हिंसा करने के खतरे में डाल सकते हैं। भाईसाब, शोधकर्ताओं ने पाया है कि बाल दुर्व्यवहार, उपेक्षा और माता-पिता और बच्चे के बीच बेहतर संबंध न होना महत्वपूर्ण जोखिम कारक हैं जो किसी को बाद में घरेलू हिंसा की ओर धकेल सकते हैं। भाईसाब, आपको जानकारी देना जरूरी है कि बचपन में कोई सदमा लगने से मानसिकता में बदलाव आ सकता है, शरीर तनाव पर प्रतिक्रिया करता है और व्यक्ति दुनिया को खतरनाक और नुकसानदायक स्थान के रूप में देखता है। भाईसाब, इन शारीरिक बदलावों से बच्चों के अपने जीवनकाल में अवसाद से ग्रस्त होने की आशंका हो जाती है और वे शराब या मादक पदार्थों के आदी भी हो सकते हैं तथा इससे घरेलू हिंसा की घटनाएं होने का खतरा बढ़ जाता है। भाईसाब, हालांकि, यह जरूरी नहीं है जिन लोगों ने बचपन में किसी सदमे या आघात का सामना किया है वे घरेलू हिंसा की घटनाओं में शामिल होंगे। अध्ययनों से पता चलता है कि अभिभावकों और बच्चों के बीच बेहतर संबंध और बचपन के दौरान सुरक्षित माहौल मिलने से उनके गलत राह पर जाने और हिंसा में शामिल होने की आशंका कम हो जाती है।

चलते-चलते, भाईसाब, ये समझ लें कि बचपन के दिनों में सकारात्मक अनुभव और माता-पिता तथा बच्चों के बीच आपसी संवाद से उनके उग्र होने से बचा सकता है, अमेरिका में 6 हजार से अधिक वयस्कों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों को बचपन में मानसिक आघात का सामना नहीं करना पड़ा है, उनमें अन्य लोगों की तुलना में अवसाद से ग्रस्त होने की आशंका 50 प्रतिशत कम थी। घरेलू हिंसा को रोकने के लिए शोध-आधारित प्रयासों की आवश्यकता है। शोधकर्ता वयस्कों में सामाजिक अलगाव के खतरों पर अधिक ध्यान दे रहे हैं, यह खतरा कोविड-19 महामारी और सोशल मीडिया से उत्पन्न सांस्कृतिक बदलावों के कारण और बढ़ गया है।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.