Home Latest मणिपुर के आसमान में दिखी उड़नतश्तरी, मचा हड़कंप | UFO in Manipur

मणिपुर के आसमान में दिखी उड़नतश्तरी, मचा हड़कंप | UFO in Manipur

0 comment

भाईसाब, क्या आपको पता है मणिपुर में उस समय हड़कंप मच गया, जब आसमान में लोगों को उड़नतश्तरी नजर आई। इसके बाद इंफाल एयरपोर्ट पर करीब 3 घंटे तक अफरातफरी मची रही। सूचना मिली थी कि कोई अनजान चीज एयरपोर्ट के पास उड़ती हुई देखी गई। यह सूचना मिलते ही एयर ट्रैफिक को तीन घंटे से ज्यादा समय तक निलंबित कर दिया गया और इस दौरान एयरपोर्ट से न तो कोई फ्लाइट उड़ी और न ही कोई फ्लाइट उतरी।

भाईसाब, आज के इस लेख में हम उड़नतश्तरी यानी यूएफओ के रहस्यों से पर्दा उठाएंगे और रहस्यमयी उड़नतश्तरियों पर प्रकाश डालेंगे जो मणिपुर के आसमान में लोगों को दिखी।

भाईसाब, आपकी जानकारी के लिए ये बताना जरूरी है कि इंफाल नियंत्रित हवाई क्षेत्र के भीतर उड़नतश्तरी यानी यूएफओ देखे जाने के बाद दिल्ली और गुवाहाटी से दो उड़ानों को डायवर्ट कर दिया गया और अगरतला, गुवाहाटी और कोलकाता जाने वाली तीन उड़ानों में देरी हुई। नागरिक उड्डयन महानिदेशक और भारतीय वायु सेना संयुक्त रूप से इस पर गौर कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि शाम चार बजे तक यूएफओ नग्न आंखों से हवाई क्षेत्र के पश्चिम की ओर बढ़ता हुआ दिखाई दे रहा था। इसे संदिग्ध ड्रोन भी माना जा रहा है लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि ये अज्ञात उड़ने वाली चीज यानी यूएफओ भी हो सकती है। इसे लेकर देशभर में चर्चा होने लगी हैं और विशेषज्ञ इस बारे में जानकारी जुटाने में लग गये हैं। इसे देश की सुरक्षा दृष्टि से भी देखा जा रहा है। आपको बता दें कि मणिपुर की सीमा नागालैंड, मिजोरम और असम से लगती है। इसके अलावा इसके पूर्व में म्यांमार के साथ एक अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा होती है।
भाईसाब, लेकिन भारत में यूएफओ देखे जाने की घटना कोई नई नहीं है। देश में इसे देखे जाने के दावे पहले भी किए जाते रहे हैं। 15 मार्च 1951 को सुबह 10 बजकर 21 मिनट पर दिल्ली के फ्लाइंग क्लब के सदस्यों ने सिगार के आकार के ऑब्जेक्ट को हवा में उड़ते हुए देखा था। उसकी लंबाई लगभग 100 फीट से अधिक थी। बाद में वह वस्तु उड़ते हुए आसमान में गायब हो गई। इस घटना को कई लोगों ने प्रत्यक्ष देखा। इसके अलावा 27 सितंबर 2004 को भारत के वैज्ञानिकों की एक टीम ने हिमाचल प्रदेश की लाहौल स्पीति घाटी में UFO देखे जाने का दावा किया था। चंद्रताल के पास समुद्र टापू नामक जगह पर वैज्ञानिकों ने एक विशेष प्रकार की वस्तु को आसमान में तेजी से मंडराते देखा था। इसे देखने का दावे करने वाली टीम में 5 भारतीय वैज्ञानिक थे, जो चंद्र ताल के पास ग्लेशियरों का अध्ययन कर रहे थे। उन्होंने इस उड़ती हुई विशेष चीज को करीब 40 मिनट तक देखा। इसके अलावा 29 अक्टूबर 2007 को कोलकाता के आसमान में रहस्यमयी चीज देखी गई। लोगों ने उस घटना का वीडियो भी बनाया, लेकिन जांच में उस घटना के बारे में कुछ स्पष्ट नहीं हो सका।
भाईसाब, आपको चौकाने वाली जानकरी देते हैं कि एलियंस के अवशेषों की खोज करने वाले वैज्ञानिक कहते हैं कि द्वारिका का निर्माण एलियंस ने किया था। इस नगर पर एलियंसों ने ही हमला करके इस नष्ट कर दिया था। माना जाता है कि श्रीकृष्ण के यहां आने के पूर्व इसे कुश स्थली कहते थे। यह नगर पहले से ही जल में डूबा हुआ था। तो भाईसाब, ये थी जानकारी यूएफओ यानी उड़नतश्तरी की, आशा करते हैं यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी, ऐसे ही अन्य रोचक जानकारी के लिए जुड़े रहें भाईसाब के साथ, धन्यवाद!

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.