Home Latest बच्चों को अपनी बोरियत से निपटना कैसे सिखाएं | Tips For Parents

बच्चों को अपनी बोरियत से निपटना कैसे सिखाएं | Tips For Parents

0 comment
Tips For Parents

भाईसाब, क्या आपको पता है, बड़े ही नहीं, कभी-कभी बच्चे भी बोरियत सामना करते हैं, माता-पिता भी यदा-कदा अपने बच्चों से एक पंक्ति जरूर सुनते हैं, ‘‘मैं बोर हो गया हूं”। वास्तव में बोर होना भी एक उपयोगी भावना है क्योंकि यह हमें अपने परिवेश में बदलाव करने में मदद करती है, बता दें कि बोरियत थोड़ी अप्रिय जरूर है लेकिन मनोवैज्ञानिक शोध बताते हैं कि वास्तव में, बोरियत बच्चों को कई महत्वपूर्ण कौशल विकसित करने में मदद करती है, जैसे आदर्श से कम अनुभवों को सहन करने की क्षमता, भावनाओं को नियंत्रित करना आदि… इसके अलावा स्वतंत्रता और आत्मनिर्भरता जैसा कौशल बच्चों में अपनी ख़ुशी और खुशहाली पर नियंत्रण की भावना विकसित करने में मदद करती है। और हां एक बात और, यदि बच्चों की बोरियत की शिकायत के कारण हमेशा घर के बड़े उनका मनोरंजन करते हैं, तो बच्चों को अपना मनोरंजन करना सीखने या अपने विचार उत्पन्न करने का अवसर नहीं मिल पाएगा। बोरियत से निपटने के लिए माता-पिता बहुत कुछ कर सकते हैं और अपने बच्चे को अपनी बोरियत से निपटना सीखने में मदद कर सकते हैं।

आप अपने बच्चे से इस बारे में बात करें कि उन्हें क्या करने में आनंद आता है, उनकी रुचियां क्या हैं। अपने बच्चे के साथ गतिविधियों का एक मेनू विकसित करें जिसे वे बोर होने पर लागू कर सकें, वहीं छोटे बच्चों को गतिविधियों का चित्र बनाकर समझा सकते हैं, उन गतिविधियों को सूचीबद्ध करने का प्रयास करें जिन्हें आपका बच्चा आपके सहयोग के बिना कर सकता है – जैसे कि रंग भरना, ब्लाक्स का किला बनाना, या टेडी बियर पिकनिक मनाना आदि के साथ-साथ जैसे कि एक बड़ी पहेली, एक उपन्यास पढ़ना, खेल कौशल पर काम करना, आदि को शामिल करें। मेनू को वहां रखें जहां आपका बच्चा इसे देख सके, सब कुछ तैयार कर लें, और हां सुनिश्चित करें कि आपके पास अपने बच्चे के लिए उनकी सूची में काम करने के लिए खिलौने, उपकरण और सामग्रियां उपलब्ध और पहुंच योग्य हैं। इसके अलावा भाईसाब, अपने बच्चे को दिन की योजना और उनके मेनू में गतिविधियों को करने के लिए अपेक्षित समय की अवधि के बारे में बताएं, यह उन्हें आश्वस्त करेगा कि वे ‘‘हमेशा” अकेले नहीं रहेंगे। भाईसाब, यदि आपका बच्चा कुछ समय के लिए उचित रूप से व्यस्त रहता है, तो सबसे पहले, आप उसे इनाम दे सकते हैं, समय के साथ पुरस्कारों को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करें, अपने बच्चे को उनकी सूची का उपयोग करने के लिए प्रेरित करें, यदि आवश्यक हो, तो अपने बच्चे को गतिविधि आरंभ करने में सहायता करें,भाईसाब कुछ बच्चों को किसी गतिविधि को शुरू करने में मदद की आवश्यकता हो सकती है, उन्हें स्थापित करने में कुछ मिनट खर्च करना आवश्यक हो सकता है, जब आपका बच्चा स्वयं उपयुक्त गतिविधि शुरू कर दे, तो प्रशंसा करें और ध्यान दें। आप कह सकते हैं, “आपको अकेले ही करने के लिए कुछ मिल गया। मैं खुश हूं!

चलते-चलते, भाईसाब ये भी जान लें कि व्यस्त रहने के लिए समय-समय पर बच्चों की प्रशंसा करने के लिए आप जो कर रहे हैं उसे रोकें, ऐसा उनकी रूचि खत्म होने से पहले करें, लेकिन समय के साथ, टिप्पणी करने से पहले का समय धीरे-धीरे बढ़ाने का लक्ष्य रखें और अपने बच्चे के साथ समय बिताएं। हालांकि बच्चों के लिए यह सीखना महत्वपूर्ण है कि बोरियत को कैसे प्रबंधित किया जाए, बच्चों को भी मूल्यवान महसूस करने और यह जानने की ज़रूरत है कि उनके माता-पिता उनके साथ समय बिताना चाहते हैं, अपने बच्चे के लिए समय निकालें और जब आप साथ हों तो उनके लिए उपलब्ध रहें।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.