Home Dharohar रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर विशेष प्रस्तुति | Shri Ram Janmabhoomi

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर विशेष प्रस्तुति | Shri Ram Janmabhoomi

0 comment
Shri Ram Janmabhoomi

भाईसाब, क्या आपको पता है, पूरे देश को ही नहीं पूरी दुनिया को है 22 जनवरी 2024 के उस पल का इंतजार है जब अयोध्या में राममंदिर के गर्भगृह में रामलला विराजित हो जाएंगे और उनकी प्राण प्रतिष्ठा हो जाएगी, देश-विदेश की हस्तियों को इस कार्यक्रम के लिए न्योता भेजा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में यह सारा कार्यक्रम संपन्न होगा, आपको बता दें कि 16 जनवरी से ही प्राण प्रतिष्ठा से पूर्व होने वाले शुभ संस्कार शुरू हो गए हैं, ये संस्कार 21 जनवरी तक चलेंगे और फिर 22 को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होगी।

भाईसाब, आपको बता दें कि 16 जनवरी को रामलला की प्रायश्चित पूजा की गई, इसके बाद सरयू के किनारे उन्हें दशविध स्नान करवाया गया, फिर विष्णु पूजा और गोदान करवाया गया और कर्मकूटि पूजन भी इसी दिन किया गया। वहीं 17 जनवरी को मूर्ति का परिसर प्रवेश करवाया गया और 18 जनवरी को गणेश अंबिका पूजन, वरुण पूजा, मातृका पूजा, ब्राह्मण वरण, वास्तु पूजा करवाई गई, इसी दिन तीर्थ पूजन, जल यात्रा, जलाधिवास और गंधाधिवास भी करवाया गया।भाईसाब, वहीं 19 जनवरी की सुबह औषधाधिवास, केसराधिवास औऱ धृताधिवास भी करवाया गया, इसके अलावा अग्नि स्थापना, नवग्रह स्थापना और हवन भी करवाई गई। भाईसाब, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 20 जनवरी यानी आज गर्भगृह को सरयू के पवित्र जल से शुद्ध किया जाएगा, इसके बाद वास्तु शांति और अन्नाधिवास करवाया जाएगा, बता दें जलाधिवास में जल से भरे पात्रों में मूर्ति को ढककर शयन करवाया जाता है। इसी तरह अन्नाधिवास में अन्न से भरे पात्र में मूर्ति का शयन होता है, आज शाम के समय रामलला की मूर्ति को सुगंधित पुष्पों में रखा जाएगा। भाईसाब, आपको ये भी बता दें कि प्राण प्रतिष्ठा से पहले कल यानी 21 जनवरी को मूर्ति को 125 घड़ों से स्नान करवाया जाएगा, इसके बाद शय्याधिवास करवाया जाएगा, यानी रामलला की मूर्ति को बिस्तर पर सुलाया जाएगा, इसके बाद भाइसाब 22 जनवरी के दिन ही वह शुभ मुहूर्त है जब रामलला विराजित होंगे, बता दें कि वाराणसी के पंडित लक्ष्मीकांत दीक्षित प्राण प्रतिष्ठा की पूजा करवाएंगे, यह कार्यक्रम दोपहर 12:20 से शुरू होकर दोपहर के 1 बजे तक चलेगा, इसके बाद श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर सकेंगे। सभी शास्त्रीय परंपराओं का पालन करते हुए प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम अभिजीत मुहूर्त में संपन्न किया जाएगा। राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बाकी गणमान्य व्यक्ति समारोह में शामिल होंगे, देशभर से कई संतों को आमंत्रित किया गया है।

भाईसाब, आपको खास बात बताना जरूरी है कि मुख्य यजमान के तौर पर डॉक्टर अनिल मिश्रा प्राण प्रतिष्ठा विधि पूरा करा रहे हैं, 22 जनवरी को रामलला की प्रतिमा की स्थापना के लिए शुभ मुहूर्त में होने वाले मुख्य अनुष्ठान में भी डॉक्टर अनिल मिश्रा अपनी पत्नी ऊषा मिश्रा के साथ मौजूद रहेंगे, वह पीएम मोदी के साथ मुख्य यजमान के तौर पर अनुष्ठान पूरे कराएंगे। भाईसाब, आप सोच रहे होंगे कि अनिल मिश्रा हैं कौन, तो आपको बता दें कि पेशे से होम्योपैथी चिकित्सक डॉ. अनिल मिश्रा को खास तौर पर इसके लिए चुना गया है, वह आरएसएस के समर्पित कार्यकर्ता भी हैं, सेवा और समर्पण में विश्वास रखने वाले डॉ. मिश्रा को सरकार ने 2020 में गठित श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में भी शामिल किया था, वह अयोध्या में ट्रस्ट में शामिल होने वाले तीन लोगों में से थे, इनमें पहला नाम अयोध्या राजपरिवार के मुखिया बिमलेंद्र मोहन मिश्र का था. इसके अलावा निर्मोही अखाड़ा के महंत दिनेंद्र दास को भी ट्रस्ट में जगह दी गई थी, श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में शामिल डॉ. अनिल मिश्रा का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से पुराना नाता है. वह मूल रूप से अंबेडकरनगर के ग्राम पतोना निवासी हैं. उनकी शुरुआती पढ़ाई लिखाई जौनपुर के जयहिंद इंटर कॉलेज में हुई. इसके बाद डॉ. अनिल होम्योपैथी पढ़ने फैजाबाद आ गए, यहां पर जब होम्योपैथी को एलोपैथी के बराबर हक देने की जंग छिड़ी तो डॉ. अनिल मिश्रा ने सक्रिय तौर पर इसमें भागीदारी की, इस आंदोलन में वह जेल भी गए। अब मुख्य यजमान के तौर पर डॉ. अनिल मिश्रा प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान पूरा करा रहे हैं.
भाईसाब, आप ये अवश्य ध्यान रखें कि 22 जनवरी को सुबह रामलला के विग्रह का पूजन होगा और दोपहर में 12 बजकर 29 मिनट से अगले 84 सेकेंड के शुभ मुहूर्त में प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा होगी। मंदिर उद्घाटन के बाद मंदिर में दर्शन सुबह 7 बजे से दोपहर 11:30 बजे तक और दोपहर 2 बजे से शाम 7 बजे तक किया जा सकेगा, प्रतिदिन तीन आरती क्रमशः सुबह 6.30 बजे, दोपहर 12.00 बजे और शाम 7.30 बजे की जाएंगी। चलते-चलते, भाईसाब, ये भी जान लें कि प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का दूरदर्शन से सीधा प्रसारण होगा, देश के सभी मंदिरों में भी उस वक्त भक्तों का जमावड़ा होने की उम्मीद जताई जा रही है, प्राण प्रतिष्ठा के बाद नए मंदिर में 23 जनवरी से श्रद्धालुओं को दर्शन मिलने लगेंगे।

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.