Home Latest देश में बढ़ रही दानवीरों की फौज! | Shiv Nadar |

देश में बढ़ रही दानवीरों की फौज! | Shiv Nadar |

0 comment

भाईसाब, पुराणों के अनुसार राजा बलि को सबसे बड़ा दानी माना गया है। कहा जाता है राजा बलि 100 यज्ञ कर रहा था। यदि वे 100 यज्ञ पूरे हो जाते तो बलि अमर हो जाता। बलि एक असुर था और घमंडी भी इसलिए भगवान विष्णु ने वामन अवतार लेकर उससे तीन पग भूमि मांगी और उसने तीनों लोकों को माप दिया। भाईसाब, कहने का मतलब है, ये भारत देश है। दानवीर दधीचि की तपस्थली। महादानी कर्ण का देश। सदी बदल जाने से यहां की परम्पराएं नहीं बदलने वाली है। उसी परम्परा को आगे बढ़ा रहे हैं देश के नए दानवीर। उन्हीं में से एक हैं शिव नादर जो इस साल के सबसे बड़े दानदाता और सबसे उदार भारतीय बने हैं। वो हर दिन 5.6 करोड़ रुपये दान में देते हैं। दूसरे हैं अज़ीम प्रेमजी क़रीब 5 करोड़ रुपये वो प्रतिदिन दान करते हैं। भाईसाब, हाल ही में जारी की गई इस साल की हुरुन इंडिया परोपकार सूची में 24 लोग शामिल हैं, जिनमें टॉप 10 में अजीज प्रेमजी, मुकेश अंबानी, गौतम अडानी, बजाज फैमिली, नंदन नीलेकणी समेत कई दिग्गज बिजनेसमैन शामिल हैं।
तो भाईसाब, आज हम अपने इस लेख में देश के दानवीरों के बारे में बताएंगे…।

भाईसाब, पैसा तो बहुत लोग कमा लेते हैं, लेकिन बहुत कम लोग होते हैं, जो अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा दान करने का हिम्मत दिखाते हैं। हालांकि भारत में ऐसे दानवीरों की कमी नहीं है, जो अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा डोनेट कर देते हैं। भाईसाब, आपको बता दें कि आईटी कंपनी एचसीएल टेक्नोलॉजीज के शिव नादर ने परमार्थ कार्यों के मामले में इस साल भी ‘सबसे उदार भारतीय’ के रूप में अपना स्थान बरकरार रखा है। जरूरतमंदों के लिये उनका योगदान इस दौरान 76 प्रतिशत बढ़कर 2,042 करोड़ रुपये रहा। डेलगिव हुरुन इंडिया की बढ़-चढ़कर परमार्थ कार्य करने वालों की इस साल की सूची के अनुसार इस दौरान विप्रो के अजीम प्रेमजी का दान 267 प्रतिशत बढ़कर 1,774 करोड़ रुपये रहा और वह सूची में दूसरे स्थान पर रहे।
भाईसाब, सबसे अमीर भारतीय मुकेश अंबानी ने इस साल 376 करोड़ रुपये का दान जरूरतमंदों के लिये दिया। यह पिछले साल से आठ प्रतिशत कम है। वह सूची में तीसरे सबसे उदार व्यक्ति बने रहे। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक की संपत्ति इस दौरान दो प्रतिशत बढ़कर 8.08 लाख करोड़ रुपये हो गई। दूसरे सबसे अमीर भारतीय गौतम अदानी दो स्थान ऊपर चढ़कर सूची में पांचवें सर्वाधिक उदार भारतीय बन गये। उन्होंने जरूरतमंदों की मदद के लिये 285 करोड़ रुपये का योगदान दिया, जो पिछले साल से 50 प्रतिशत ज्यादा है। हुरुन की हाल की रिपोर्ट में अदानी की संपत्ति 4.74 लाख करोड़ रुपये आंकी गई है। हुरुन की अक्टूबर में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, नादर की संपत्ति 2.28 लाख करोड़ रुपये आंकी गई थी और वह सॉफ्टवेयर उद्योग के चौथे सबसे अमीर भारतीय थे। वहीं विप्रो के प्रेमजी 30,000 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ 58वें स्थान पर थे। वहीं आदित्य बिड़ला समूह के कुमार मंगलम बिड़ला ने 287 करोड़ रुपये के दान के साथ चौथे सबसे उदार भारतीय के रूप में अपना स्थान बरकरार रखा।
भाईसाब, कुछ व्यक्तियों और परिवारों ने तो दान देने वालों की सूची में शीर्ष 10 में जगह बनाने के मामले में छलांग लगायी है। इसमें बजाज परिवार के साथ-साथ साइरस एस पूनावाला और अदार पूनावाला और रोहिणी नीलेकणि भी शामिल हैं। जैसे-जैसे धन का विस्तार हो रहा है, पारिवारिक स्तर पर परमार्थ कार्य बढ़ रहे हैं। भोजन, कपड़े और छात्रवृत्ति जैसी आवश्यक चीजें प्रदान करने के कार्यों से लेकर ये लोग नये और विकास की रफ्तार में पीछे रह गये क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। सूची का प्राथमिक लक्ष्य दूसरे की मदद के लिये गये गये प्रयासों को स्वीकार करना है और यह सुनिश्चित करना है कि उनका प्रभाव समाज के हर वर्ग तक पहुंचे।
भाईसाब, सूची में सबसे खास बात ये रही कि महिलाओं में रोहिणी नीलेकणि परमार्थ कार्यां में सबसे उदार महिला रहीं। इनके अलावा, थर्मेक्स की अनु आगा और लीना गांधी तिवारी सहित अन्य लोग भी दान देने वालों की सूची में शामिल हैं। भाईसाब, आपको बता दें कि शेयर बाजार में कारोबार की सुविधा देने वाली कंपनी जेरोधा के 37 वर्षीय सह-संस्थापक निखिल कामत सूची में सबसे कम उम्र के दानदाता हैं। कामत बंधुओं ने कुल 110 करोड़ रुपये जरूरतमंदों के लिये दिये। एलएंडटी के एएम नाइक 150 करोड़ रुपये के दान के साथ पेशेवरों में सबसे बड़े दानकर्ता रहे। उन्हें दानदाताओं की सूची में 11वां स्थान मिला। सूची में ऐसे चार व्यक्ति हैं, जिन्होंने 100 करोड़ रुपये और उससे अधिक का वार्षिक दान दिया। सूची में कुल 119 व्यक्ति और परिवार शामिल हैं।
भाईसाब, जानकारी दे दें कि देश के 10 बड़े दानवीरों ने इस साल 5806 करोड़ रुपए दान दिए हैं। जबकि पिछले साल 10 बड़े दानवीरों ने 3034 करोड़ दान दिए थे। अगर पिछले 5 सालों में 100 करोड़ रुपए से अधिक का दान देने वाले लोगों की बात करें तो ये संख्या 2 से बढ़कर 14 हो गई है। जबकि 50 करोड़ रुपए से अधिक दान देने वालों की संख्या 5 से बढ़कर 24 हो गई है.
तो भाईसाब, देश में बढ़ते दानदाताओं पर लिखी हुई यह जानकारी, आपको कैसी लगी..ये हमें जरूर बताएं..अपना कीमती कमेंट देकर…और तब तक के लिए जुड़े रहें भाईसाब के साथ…धन्यवाद!

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.