Home Gali Nukkad सुप्रीम कोर्ट ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव पलटा | SC Verdict on Chandigarh Mayor Election

सुप्रीम कोर्ट ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव पलटा | SC Verdict on Chandigarh Mayor Election

0 comment
SC Verdict on Chandigarh Mayor Election

भाईसाब, आपको जानकर हैरानी होगी कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले से लोकतंत्र लाज बचा ली है, चंडीगढ़ नगर निगम के मेयर चुनाव में सुप्रीम कोर्ट ने 30 जनवरी को आए चुनाव नतीजों को पलटते हुए भाजपा की जगह आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार को विजेता घोषित किया है, सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला इस बात को प्रमामित करता है कि चुनावों की निष्पक्षता बनाए रखने से ही लोकतंत्र में विश्वास बना रहता है।

भाईसाब, सुप्रीम कोर्ट ने मेयर चुनाव को लेकर बैलेट पेपर्स की जांच के बाद कहा कि जिन 8 वोटों को अवैध घोषित किया गया था, वे AAP कैंडिडेट कुलदीप कुमार के पक्ष में पड़े थे, इस तरह चंडीगढ़ में अब आम आदमी पार्टी का मेयर बनने का रास्ता साफ हो गया, आपको जानकारी दे दें कि चीफ जस्टिस ने वकीलों और पर्यवेक्षकों को बैलेट पेपर दिखाकर कहा कि जिन 8 बैलेट पेपर्स को अवैध घोषित किया गया था, उनमें से सभी पर कुलदीप कुमार के लिए मुहर लगाई गई थी, अदालत ने कहा कि अनिल मसीह ने इन बैलेट पेपर्स पर लाइन खींच दी थी, अदालत ने यह भी पूछा कि आखिर जब कोई गड़बड़ी थी ही नहीं तो फिर आपने इन्हें अवैध घोषित करते हुए लाइन क्यों खींच दी, इस पर अनिल मसीह के वकीलों ने कहा कि वोटिंग के दौरान माहौल खराब हो गया था, ऐसे में अनिल मसीह को लगा कि शायद ये लोग बैलेट पेपर्स में कोई गड़बड़ी कर रहे हैं और उन्हें लेकर भाग रहे हैं, ऐसे में अनिल मसीह ने बैलेट पेपर्स को छीन लिया और उन पर क्रॉस का निशान बनाते हुए अवैध घोषित किया, हालांकि शीर्ष अदालत उनके इस तर्क से संतुष्ट नहीं दिखी, बता दें कि मेयर चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी के तीन पार्षद भाजपा का दामन थाम चुके हैं, ऐसे में यदि दोबारा चुनाव होता तो भाजपा का ही मेयर बन सकता था, पर अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने आम आदमी पार्टी को बड़ी राहत दे दी है। वहीं भाईसाब आप सोच रहे होंगे कि ये अनिल मसीह कौन हैं तो, हम आपको बताते हैं कि अनिल मसीह रिटर्निंग ऑफिसर, उनको कोर्ट ने अवमानना का नोटिस भी दिया है, अनिल मसीह ने भी अदालत में माना है कि उन्होंने बैलेट पेपर में क्रॉस का निशान बनाया था, 53 साल के मसीह पर चंडीगढ़ मेयर चुनाव में बैलेट पेपर से धोखाधड़ी करने का आरोप है, कुछ सालों पहले ही उन्होंने बीजेपी ज्वॉइन की थी।

चलते-चलते, आपको बताना जरूरी है कि चंडीगढ़ में मेयर चुनाव के लिए 30 जनवरी को वोटिंग हुई थी, उसमें बीजेपी के मनोज सोनकर को 16 वोट मिले थे, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के साझा उम्मीदवार कुलदीप कुमार को 12 वोट मिले थे, 8 वोट को रिटर्निंग ऑफिसर अनिल मसीह ने अवैध करार दिया था।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.