Home Latest IPL में सऊदी अरब का भारी इन्वेस्टमेंट ! | Saudi Arabia Investment |

IPL में सऊदी अरब का भारी इन्वेस्टमेंट ! | Saudi Arabia Investment |

0 comment

भाईसाब, क्या आपको पता है इंडियन प्रीमियर लीग यानी IPL-2024 सत्र से पहले खिलाड़ियों की नीलामी 19 दिसंबर को दुबई में होगी। यह भी पहली बार होगा कि खिलाड़ियों की नीलामी भारत के बाहर आयोजित की जाएगी। वहीं एक और खास घटना इस बार हाने जा रही है, वह है IPL में सऊदी अरब के निवेश की चाहत की, जिसने दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों को आश्चर्य में डाल दिया।
तो भाईसाब, आज के इस लेख में हम IPL में सऊदी अरब के निवेश पर फोकस करेंगे और इंडियन प्रीमियर लीग यानी IPL-2024 में सऊदी अरब के निवेश की चाहत को लेकर चर्चा करेंगे।

भाईसाब, आपके लिए ये जानना जरूरी है कि अब दुनिया के दूसरे सबसे पॉपुलर खेल IPL में निवेश कर सऊदी अरब खुद को इंटरनेशनल स्पोर्ट्स की दुनिया में स्थापित करने की कोशिश कर रहा है। सऊदी अरब का प्रस्ताव है कि आईपीएल को एक कंपनी में बदला जाए। क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के सलाहकारों ने अपने इन्वेस्टमेंट प्लान के बारे में भारत सरकार के अधिकारियों को बताया है। प्लान यह है कि आईपीएल को एक कंपनी के रूप में ट्रांसफर किया जाएगा। इसकी वैल्यूएशन करीब 30 अरब डॉलर यानी करीब ढाई लाख करोड़ रुपए की होगी। इसके बाद सऊदी अरब इसमें बड़ी हिस्सेदारी खरीदना चाहता है। सलमान IPL में 5 बिलियन डॉलर यानी करीब 41 हजार करोड़ रुपए का निवेश कर लीग को डोमेस्टिक की जगह ग्लोबल क्रिकेट लीग बनाना चाहते हैं। IPL दुनिया की सबसे बड़ी स्पोर्ट्स लीग में से एक है। BCCI हर IPL मैच से करीब 118 करोड़ रुपए कमाता है।
भाईसाब, आपको बता दें कि IPL से BCCI जमकर पैसा कमाता है, मानो पैसों की बरसात हो रही हो. आपको जानना जरूरी है कि BCCI कई प्रकार से IPL के जरिये पैसे कमाती है. पहला माध्यम है मीडिया और ब्रॉडकास्टिंग राइट्स जिसके जरिये BCCI आमदानी करती है यानी IPL के मैचों के टेलीकास्ट करने का अधिकार। मैच के लाइव टेलिकास्ट के अलावा हाइलाइट्स तक सिर्फ वही कंपनी दिखा सकती है, जिसके पास मीडिया राइट्स हों। इससे ही BCCI को सबसे ज्यादा रेवेन्यू मिलता है। इसके अलावा साल 2008 में टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए सालाना 50 करोड़ दिए गए थे। वहीं 2023 में ये आंकड़ा सालाना 300 करोड़ से ज्यादा हो गया। टाटा और BCCI के बीच दो साल की डील हुई है, इसके लिए कुल 600 करोड़ दिए गए। टाइटल स्पॉन्सरशिप के अलावा फ्रेंचाइजी फीस भी BCCI के लिए कमाई का जरिया है. कोई भी नई टीम जब IPL का हिस्सा बनती है, इसके लिए फ्रेंचाइजी फीस देनी होती है। यह पूरी प्रोसेस बोली लगाकर होती है, जिसमें अलग-अलग कंपनियां या ग्रुप टीम खरीदने के लिए बिडिंग प्रोसेस का हिस्सा बनते हैं। साल 2022 में जब गुजरात टाइटंस और लखनऊ सुपरजायंट्स लीग का हिस्सा बनीं, तो BCCI के खाते में 12,500 करोड़ जुड़ गए।
भाईसाब, आपको मालूम होना चाहिए कि करीब एक साल पहले BCCI ने IPL के 2023 से 2027 तक के मीडिया राइट्स 48,390.52 करोड़ रुपए में बेचे थे। डिज्नी स्टार ने भारतीय महाद्वीप के TV राइट्स को 23,575 करोड़ रुपए में खरीदा। वायकॉम 18 ने भारतीय महाद्वीप के डिजिटल राइट्स 20,500 करोड़ रुपए में और चुनिंदा 98 मैचों के नॉन एक्सक्लूसिव डिजिटल राइट्स 3,258 करोड़ रुपए में खरीद लिए थे। IPL के 16 सीजन खेले जा चके हैं। 17वां सीजन अगले साल अप्रैल और मई के दौरान खेला जाएगा। इसके लिए मिनी ऑक्शन 19 दिसंबर को दुबई में होना तय है। सभी 10 टीमें ऑक्शन से पहले 26 नवंबर तक अपने प्लेयर्स को रिलीज और रिटेन कर सकती हैं। ऑक्शन में सभी टीमों के पास 100 करोड़ रुपए का पर्स रहेगा यानी पिछली बार के मुकाबले पर्स में 5 करोड़ रुपए ज्यादा रहेंगे। इंडियन प्रीमियर लीग का सीजन हर साल 8 हफ्तों तक चलता है। वहीं बिडर्स ने साल 2027 तक के ब्रॉडकास्टिंग राइट्स के लिए 6.2 अरब डॉलर की बोली लगाई हुई है। यानी 1.5 करोड़ डॉलर प्रति मैच। यह रकम अमेरिका के नेशनल फुटबॉल लीग के 1.7 करोड डॉलर के करीब और ईपीएल से ज्यादा है।
भाईसाब, आपको बताना जरूरी है कि सऊदी अरब दुनियाभर की प्रमुख लीग में निवेश कर रहा है। इसमें सऊदी फुटबॉल प्रो लीग भी शामिल है, जिसमें दुनिया के बड़े फुटबॉलर्स में से एक क्रिस्टियानो रोनाल्डो भी खेलते हैं। इसके अलावा, पिछले 2 सालों में सऊदी लीग ने बड़े निवेश कर दुनियाभर के टॉप यूरोपियन फुटबॉलर्स को अपनी लीग में शामिल किया है। इस कारण कई खिलाड़ियों ने नेशनल टीम से रिटायरमेंट भी ले लिया है। इस साल सऊदी अरब 2036 फीफा वर्ल्ड कप के लिए भी दावेदारी पेश कर रहा है।
यह भी जान लें कि सऊदी अरब चाहता है कि फुटबॉल की लीग्स की तर्ज पर आईपीएल का दूसरे देशों में भी विस्तार हो। सऊदी अरब जल्द ही इस सौदे को करना चाहता है। वहीं, भारत सरकार और बीसीसीआई पूरे विचार-विमर्श के बाद ही इस पर कोई फैसला लेंगे। सूत्रों के अनुसार, सरकार अगले साल के आम चुनावों के बाद ही इस प्रस्ताव पर कोई फैसला लेगी। इस समय बीसीसीआई की अध्यक्षता जय शाह कर रहे हैं, जो देश के गृह मंत्री अमित शाह के बेटे हैं।
तो भाईसाब, ये थी जानकारी आईपीएल में सऊदी अरब के निवेश की चाहत की,आशा करते हैं यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी, ऐसे ही अन्य रोचक स्पोर्ट्स की जानकारी के लिए जुड़े रहें भाईसाब के साथ, धन्यवाद!

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.