Home Haal-khayal चुपके-चुपके आंखों की रोशनी हो रही कम | Protect Your Eyes from Screen Strain

चुपके-चुपके आंखों की रोशनी हो रही कम | Protect Your Eyes from Screen Strain

0 comment
Protect Your Eyes from Screen Strain

भाईसाब, क्या आपको पता है, चुपके-चुपके आपकी आंखों की रोशनी कम हो रही है, शायद आपको पता ही नहीं चल रहा है कि, कोई, आपकी आपकी आंखों को Silent Kill कर रहा है, शायद आपको भी अपनी मां की यह हिदायत याद होगी कि पास से टीवी मत देखो, वरना आंखें खराब हो जाएंगी, और उस समय शायद हम टीवी देखना कम भी कर देते थे लेकिन अब का क्या जहां सारे काम कंप्यूटर आधारित हो गए हैं, ऐसे में आंखों की सेहत तेजी से बिगड़ रही है, आज के इस वीडियो में हम देश में बढ़ रही आंखों की समस्या को लेकर चर्चा करेंगे और आपको आंखों को Healthy रखने के उपाय भी बताएंगे.

भाईससाब, technology टेक्नोलॉजी के बढ़ते इस्तेमाल ने workplaces का मानों हुलिया ही बदल दिया हो, हर किसी Professionals की एक ही कहानी है यानी बिना कंप्यूटर के किसी का काम नहीं चलता है, ऐसे में आंखों की सेहत भी बुरी तरह प्रभावित हो रही है, भाईसाब, आपको जानकारी दे दें कि computer पर काम करने के दौरान कई प्रकार से आंखों पर दबाव पड़ता है, यहां तक कि कई बार लगातार computer पर काम करते रहने से यदि screen से दूर देखा जाए तो चीजें धुंधली नजर आती हैं, इससे अस्थाई रूप से distance vision की समस्या पैदा हो सकती है, अन्य लक्षणों में धुंधला नजर आना, सही तरीके से स्क्रीन पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाना, या सिरदर्द होना। भाईसाब, आपने ध्यान दिया होगा कि लगातार कंप्यूटर स्क्रीन पर काम करते रहने से उनमें खुजली महसूस होती है, विशेषज्ञों के अनुसार, आमतौर पर आंखें एक मिनट में 12-15 मिनट पर झपकती हैं, लेकिन computer screen पर काम करने वाले एक मिनट में केवल 4-5 बार ही आंखों को झपकाते हैं, आंखों को कम झपकाना और अधिक समय तक काम करते रहने से dry eyes, खुजली जैसी समस्याएं हो सकती हैं, वहीं दूसरी ओर कंप्यूटर पर लगातार काम करने वालों की आंखों से पानी निकलने की समस्या भी हो जाती है क्योंकि आंखें नहीं झपकाने से lubricant सही तरीके से आंखों में फैलता नहीं और उससे खुजली होती है और पानी बहता है। भाईसाब, अगर समय रहते नहीं संभले तो, आने वाले समय में आंखों की रोशनी जाने की समस्या विकराल रूप ले सकती है, इसलिए समय रहते इस समस्या का उपाय करना भी जरूरी है, इसलिए दोस्तों, कंप्यूटर को इतनी दूरी पर रखें कि आप स्क्रीन को सही रूप में देख सकें,  कंप्यूटर को तरह से रखें कि स्क्रीन के सेंटर से जो समानांतर लाइन है वह 7 से 8 इंच नीचे हो, इसके अलावा screen को ऐसी जगह पर घुमाकर एडजस्ट करें जहां उस पर कोई रोशनी ना पड़ रही हो, जैसे स्क्रीन पर खिड़की से आती हुई रोशनी, इसके अलावा अपने eye मसल्स को पूरी तरह से आराम पहुंचाएं, बीच-बीच में स्क्रीन से 20 फीट दूर देखने की कोशिश करें, हर एक घंटे बाद थोड़ी देर का ब्रेक लें, इसमें स्ट्रेचिंग और स्टेडिंग दोनों शामिल हो, इसके अलावा अपने डॉक्टर से आंखों से संबंधित एक्सरसाइज के बारे में पूछें जिसका अभ्यास आप ब्रेक के दौरान कर सकें। भाईसाब, विशेषज्ञों के मुताबिक कंप्यूटर-मोबाइल के कारण आंखों को होने वाले दुषप्रभावों को कम करने के लिए इससे निकलने वाली नीली रोशनी को कम रखें, आजकल सेटिंग्स में रीडिंग मोड का विकल्प होता है जो स्वत: इस रोशनी को कम कर देता है, रीडिंग मोड में काम करने से आंखों पर दुष्प्रभाव का जोखिम कम हो जाता है,

चलते-चलेत, भाईसाब,  आपको बताते चलें कि आंखों की सेहत का ख्याल रखना सभी के लिए बहुत आवश्यक है, देश में कंप्यूटर का इस्तेमाल करने वाले 50 से 90% लोगों में computer vision syndrome की समस्या से पीड़ित हैं, न केवल वयस्क लोग इस syndrome से जूझ रहे हैं, बल्कि मोबाइल फोन, टैबलेट और गेमिंग उपकरणों का उपयोग करने वाले बच्चों में भी इसके लक्षण देखे गए हैं.

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.