Home Teej Tyohhar नाग पंचमी | सावन महीने का प्रमुख त्यौहार | Bhaisaab

नाग पंचमी | सावन महीने का प्रमुख त्यौहार | Bhaisaab

0 comment

सावन का पवित्र महीना चल रहा है। यह महीना भगवान शिव की पूजा-पाठ और आराधना के लिए सबसे शुभ और मंगलकारी माना गया है। अब अगर बात सावन के महीने की हो ही रही हैं तो नाग पंचमी के त्यौहार की बात भी जरूर होनी चाहिए l

हिंदू पंचांग के अनुसार सावन शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर नाग पंचमी का पर्व आता है l हिंदू धर्म में नाग पंचमी का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है की इस दिन नाग देवत की पूजा करने पर घर में सुख और समृद्धि का वास होता है। यह त्योहार सावन के महीने का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है। इस दिन भगवान शिव की पूजा-आराधना के साथ नाग देवता की भी विधिवत पूजा अर्चना होती हैं l

आईये जानतें हैं यह दिन कैसे मनाया जाता हैं l

banner

इस दिन नाग देवता को दूध और धान से बना लावा चढ़ाकर उनकी पूजा की जाती हैं l चांदी,पत्थर या लकड़ी से बने नाग देवताओ को पानी और दूध से स्नान कराया जाता हैं l इस दिन व्रत रखा जाता हैं और ब्राह्मणो को भोजन कराया जाता हैं कई जगहों पर असली सांपों की पूजा की जाती है और मेले भी लगते हैं। इस दिन जमीन खोदना वर्जित है क्योंकि इससे जमीन में रहने वाले सांपों को नुकसान पहुंच सकता है। इस अवसर पर घर के दरवाज़ों और बाहर की दीवारों को साँपों के चित्रों से चित्रित किया जाता है, और उन पर शुभ मंत्र भी लिखे जाते हैं और यह उत्सव पुरे भारत में मनाया जाता है

नाग पंचमी मानाने के पीछे की पौराणिक कथा

पौराणिक कथाओ के अनुसार राजा जनमेजय ने राजा परीक्षित की सर्प द्वारा मृत्यु होने पर नाग वंश का नाश करने के लिए सर्प मेध यज्ञ का आयोजन किया। इस यज्ञ में लाखों करोड़ों नाग जलकर भस्म होने लगे तब आस्तिक मुनि वहां पहुंचे और उन्होंने सर्पमेघ यज्ञ को रुकवाया और नागों के ऊपर ठंडा दूध डाला। जिससे नागों के शरीर को ठंडक मिली साथ ही धान का लावा रखा। इससे नागों की जीवन बच गया।नागो की रक्षा का यह कार्य आस्तिक मुनि ने श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन किया था। इस कारण तक्षक नाग जो नागो के राजा हैं वह बच गए और इसी कारण नागो का वंश भी बच गया । तभी से नागपंचमी मनाई जाने लगी।

इसके अतिरिक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए लोग सांपों की पूजा करते हैं, क्यों की भगवान शिव अपने गले में नाग धारण करते हैं।

आशा हैं हमारी यह तीज त्यौहार की जानकारी पसंद आई होगी ऐसे ही और त्योहारों के बारे में जानने के लिए हमें Instagram, Twitter, Fcaebook पर फॉलो करें और हमारा YouTube चैनल सब्सक्राइब करना न भूलें

धन्यवाद !

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.