Home Haal-khayal निर्माण धूल प्रदूषण सेहत के लिए खतरनाक | Health Hazards due to Construction Dust Pollution

निर्माण धूल प्रदूषण सेहत के लिए खतरनाक | Health Hazards due to Construction Dust Pollution

0 comment
Health Hazards due to Construction Dust Pollution

भाईसाब, क्या आपको पता है घर बनाते समय जो निर्माण धूल निकलती है वो सेहत के लिए बहुत खतरनाक होती है, निर्माण धूल के ये छोटे-छोटे कण सांस के जरिये फेफड़ों तक पहुंचकर उन्हें नुकसान पहुंचाते हैं, देशभर में निर्माण धूल के कण दमा, अस्थमा और एलर्जी जैसी कई बीमारियों का कारण बन रहे हैं, ये उन लोगों के लिए और खतरनाक हैं, जो पहले से ही इन बीमारियों से पीड़ित हैं, उनके लिए ये जानलेवा साबित हो सकते हैं, विशेषज्ञों के मुताबिर टाइल्स और मार्बल काटने के दौरान निकलने वाले धूल कण धीरे-धीरे शरीर पर अपना दुष्प्रभाव दिखाते हैं, और लंबे समय तक धूल के बीच रहने वाले लोगों के लिए यह खतरनाक है।

भाईसाब, इस तरर के निर्माण धूल प्रदूषण से रेहड़ी-पटरी लगाने वाले, यातायात पुलिस और अधिक समय सड़क पर बिताने वाले लोगों को संभलकर रहने की जरूरत है क्योंकि ये धूल ये नाक और मुंह के रास्ते शरीर में दाखिल होकर दमा, अस्थमा, एलर्जी, चर्म रोग, आंखों की समस्या का कारण बनते हैं, एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में इस तरह के मरीजों की संख्या बढ़ते जा रही है जो लंबे समय तक धूल के बीच रहते हैं, विशेषज्ञों के मुताबिक जो बीमारियां गांवों में 20 वर्षो में धुएं में रहने के कारण होती हैं, उस प्रकार की बीमारियां धूल-कण के कारण मात्र दो साल में हो जाती हैं, दमा उनमें से एक है, अस्थमा वाले मरीजों के लिए यह जानलेवा है, इसमें सांस की नली सिकुड़ जाती है, जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है, कई मामलों में सांस रूकने के कारण मौत भी हो जाती है।भाईसाब आपको सुनकर हैरानी होगी कि टाइल्स काटने की धूल के संपर्क में आने से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, टाइल्स धूल में खतरनाक रसायन पाए जाते हैं, इसमें crystalline silica नामक रसायन प्रमुख है, crystalline silica कणों में सांस लेने से कई बीमारियां होती हैं, जिनमें Silicosis रोग भी शामिल है, जो फेफड़ों की एक लाइलाज बीमारी है जो विकलांगता का कारण भी बन सकती है। दूसरी ओर भाईसाब मार्बल काटना भी जहरीला है, बता दें कि मार्बल को काटने और polish करने की प्रक्रिया सेहत के लिए dangereous है, मार्बल काटने की प्रक्रिया में, पत्थर से धूल और छोटे कण उत्पन्न होते हैं, ये कण जब हवा में मिल जाते हैं, तो ये सांस के जरिये शरीर के अंदर आसानी से entry कर लेते हैं, इसमें silica होता है जो फेफड़ों के लिए हानिकारक है और ये भी सिलिकोसिस जैसी बीमारियों का कारण बन सकता है। भाईसाब, अब आपको बताते हैं कि निर्माण धूल प्रदूषण से अपने आप को कैसे बचाएं, तो ये जान लें कि यदि आप निर्माण स्थलों पर जाते हैं तो मास्क का उपायोग करें, यदि मास्क न हो तो मुंह पर कपड़ा भी लपेटकर रख सकते हैं, और हां मोटरसाइकिल चालक हेलमेट जरूर लगाएं और कार चालक अपनी कार का शीशा बंद रखें, इसके अलावा धूल नियंत्रण प्रणालियों का उपयोग करें, उचित वेंटिलेशन, व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों जैसे कि धूल मास्क, सुरक्षा चश्मे, और श्वासयंत्र का उपयोग करना चाहिए।

चलते-चलते, भाईसाब, आपको जानकारी देना जरूरी है कि देश में हर साल 43 लाख लोग घर के अंदर होने वाले पलूशन के शिकार हो रहे हैं, घर के भीतर हवा में भी धूल कण और कीटाणु मौजूद होते हैं, इनकी वजह से कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स आ जाती हैं। इसके लिए जरूरी है घर को बनवाते समय सिरेमिक टाइल्स, मार्बल और पत्थर लगाने की बजाय वुडन फ्लोरिंग करवाएं अगर घर के अंदर बहुत सारा बेकार का सामान भरा पड़ा हो, तो भी वहां घुटन का अहसास होता है, इससे बचने के लिए अपने घर के अंदर पड़े बेकार सामान को फेंक दें या बेच दें।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.