Home Latest सुप्रीम कोर्ट के फैसले से अदानी को राहत | Gautam Adani relieved

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से अदानी को राहत | Gautam Adani relieved

0 comment
Gautam Adani relieved

भाईसाब, क्या आपको पता है, अदानी-हिंडनबर्ग प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट ने यह कह कर कांग्रेस और साथ ही उन तत्वों को बड़ा झटका दिया है, जो इस मामले को लेकर अदानी समूह के साथ केंद्र सरकार को भी घेरने में लगे हुए थे कि, सेबी की जांच में कोई खामी नहीं है और विशेष जांच दल गठित करने की कोई आवश्यकता नहीं। सुप्रीम कोर्ट की यह टिप्पणी भी महत्वपूर्ण है कि ऐसी जनहित याचिकाएं स्वीकार नहीं की जा सकती, जिनमें पर्याप्त शोध की कमी हो और जो अप्रमाणित रिपोर्टों को सच मानती हों। स्पष्ट है कि यह टिप्पणी उन तत्वों को भी आईना दिखाती है, जो जनहित याचिकाओं का इस्तेमाल अपने निहित स्वार्थों को साधने के लिए करते हैं। इससे इन्कार नहीं किया जा सकता कि कुछ तत्व ऐसे हैं, जिन्होंने जनहित याचिकाओं को एक उद्योग में तब्दील कर दिया है। वे हर मामले में जनहित याचिका के सहारे सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच जाते हैं।

एक वर्ष पहले जब अमेरिकी शार्ट सेलर फर्म हिंडनबर्ग ने यह आरोप लगाया था कि अदानी समूह अपने शेयरों में हेराफेरी कर रहा है तो उससे केवल इस समूह को ही नुकसान नहीं पहुंचा था, बल्कि भारतीय निवेशकों के अच्छे-खासे पैसे भी डूब गए थे। इसके अतिरिक्त अदानी समूह के प्रमुख गौतम अदानी अमीरों की सूची में तीसरे नंबर से खिसककर 25वें नंबर पर पहुंच गए थे, हिंडनबर्ग ने अदानी समूह की साख पर आघात कर अच्छी-खासी कमाई भी कर ली थी। भाईसाब, एक तथ्य यह भी है कि अदानी समूह के खिलाफ हिंडनबर्ग की रिपोर्ट मोदी सरकार को घेरने का जरिया भी बन गई थी, संसद के भीतर और बाहर इसे लेकर खूब हंगामा हुआ था। राहुल गांधी ने इस मामले को खूब तूल दिया था, जब सुप्रीम कोर्ट इस मामले में अपना फैसला सुना रहा था, लगभग उसी समय तेलंगाना के कांग्रेसी मुख्यमंत्री अदानी समूह के प्रबंध निदेशक से मुलाकात कर रहे थे। भाईसाब, महत्वपूर्ण केवल यह नहीं है कि सुप्रीम कोर्ट ने सेबी की अब तक की जांच को सही पाया, बल्कि यह भी है कि उसने विदेशी संस्थाओं की रपट पर आंख मूंदकर भरोसा करने से इन्कार किया। कुछ समय पहले उसने यह कहा था कि हिंडनबर्ग रिपोर्ट में जो कुछ कहा गया है, उसे पूरी तरह सही नहीं माना जा सकता। पिछले दिनों भी उसने मोदी सरकार से खुन्नस खाने वाले अरबपति निवेशक जार्ज सोरोस से जुड़ी संस्था OCCRP के आरोपों को महत्व देने से इन्कार किया।भाईसाब, सुप्रीम कोर्ट का फैसला यह रेखांकित कर रहा है कि सेबी और सरकार को ऐसी व्यवस्था करनी होगी, जिससे संदिग्ध इरादों वाली हिंडनबर्ग और ओसीसीआरपी जैसी संस्थाएं भविष्य में देश के कारोबार जगत को निशाना न बना पाएं। भाईसाब, आपको बताना जरूरी है कि अदानी पर हिंडनबर्ग के आरोपों के संदर्भ में सेबी की जांच पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अदानी समूह के लिए राहत भरा है। इससे पहले शीर्ष अदालत द्वारा गठित विशेषज्ञ समिति ने भी इस समूह पर अनियमितता के सबूत नहीं पाए थे। पिछले साल जनवरी में हिंडनबर्ग ने अपनी रिपोर्ट में अदानी समूह पर खाते में हेराफेरी और कंपनी में गड़बड़ी करने तथा शेयरों की कीमत बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने जैसे सनसनीखेज आरोप लगाए थे। भाईसाब, सर्वोच्च न्यायालय ने मामले की जांच के लिए एक विशेषज्ञ समिति तो बनाई ही, सेबी को अलग से मामले की जांच भी सौंपी। विशेषज्ञ समिति ने अदानी समूह के शेयरों की बढ़ा-चढ़ाकर बोली लगाने का बेशक कोई सबूत नहीं पाया, लेकिन उसने अपनी रिपोर्ट में यह कहा था कि कीमतों में सुनियोजित उतार-चढ़ाव व सेबी की अगर कोई भूमिका रही हो, तो उसके बारे में पता करना संभव नहीं। भाईसाब, बता दें कि अदानी से जुड़े 24 में से 22 मामलों की जांच सेबी ने पूरी की है, ऐसे में शीर्ष अदालत ने उसे बाकी दो मामलों की जांच के लिए तीन महीने की मोहलत दी है, जिन दो मामलों की जांच होनी है, वे हैं- अदानी समूह की कंपनियों में 12 विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक कौन थे, तथा इस समूह की कंपनियों के शेयरों में पिछले साल ट्रेडिंग का पैटर्न क्या था?

चलते-चलते, भाईसाब आपको जानकारी दे दें कि भाईसाब, विपक्ष सेबी की भूमिका पर भी सवाल उठा चुका है। लेकिन शीर्ष अदालत ने न सिर्फ सेबी की जांच पर संतुष्टि जताते हुए जांच की जिम्मेदारी किसी और को देने से इन्कार किया है, बल्कि यह भी कहा है कि अदालत को सेबी के अधिकार क्षेत्र में दखल देने का सीमित अधिकार है। भाईसाब, कुल मिलाकर, सुप्रीम कोर्ट का फैसला अदानी समूह के लिए तो राहत भरा है ही, जिसका पता गौतम अदानी की प्रतिक्रिया से चलता है, लोकसभा चुनाव से पहले आया यह फैसला केंद्र सरकार के लिए भी आश्वस्त करने वाला है।

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.