Home Latest देश में दिखाई देंगी उड़ने वाली कारें | Flying Cars

देश में दिखाई देंगी उड़ने वाली कारें | Flying Cars

0 comment

भाईसाब, कल्पना कीजिए कि आपको बहुत दूर कहीं जाना है और आपको शहर की भीड़ और यातायात का सामना नहीं करना पड़ रहा है। अगर आपने ऐसा कोई सपना देखा है तो वह जल्द ही हकीकत बन जाएगा। उड़ने वाली कारें जल्द ही हमारे देश में दिखाई देंगी। इस सेवा से आप एक ही शहर में 2 से 3 घंटे की जगह सिर्फ 5 से 7 मिनट में यात्रा कर सकते हैं। तो भाईसाब, आज के इस लेख में हम देश में उड़ने वाली कारों पर और उनके सेवा की तैयारियों के बारे में जानेंगे, हम ये बताने की कोशिस करेंगे कैसे देश में हवाई टैक्सी सेवा शुरू हाने समय की बचत होगी ?।

भाईसाब, बता दें कि भारत में टैक्सी का चलन दशकों से है। लेकिन, बीते कुछ सालों में टैक्सी बुकिंग के तरीके काफी हद तक बदल गए हैं। अब कई टैक्सी कंपनी आ गई है जो मोबाइल के जरिए ऑनलाइन बुकिंग की फैसिलिटी देते हैं। कई शहरों में कारों के साथ-साथ बाइक टैक्सी भी उपलब्ध हैं। लेकिन, अब आने वाला समय में कुछ नया होने वाला है। अब 2026 में लोग जमीन के साथ-साथ आसमान में भी टैक्सी जैसा सफर कर सकेंगे। भारत में बहुत जल्द उड़ने वाली टैक्सी देखने को मिल सकती है। रिपोर्ट के अनुसार, देश में साल 2026 तक पहली फुल-इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी आ सकती है। भारत की कंपनी इंटर ग्लोब एंटरप्राइज, अमेरिकी स्टार्टअप आर्चर एविएशन के साथ मिलकर देश में 2026 तक इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी लाने की तैयारी कर रही है। इसे दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में चलाया जाएगा। भाईसाब, आपको बता दें कि इंटरग्लोब एंटरप्राइज की सहयोगी कंपनी ही देश की अग्रणी निजी हवाई सेवा इंडिगो का संचालन करती है, जो न केवल देश में बल्कि विदेश तक यात्रियों को लेकर जाती है। वहीं आर्चर एविएशन ने अमेरिका के बाहर पहला समझौता यूनाइटेड अरब अमीरात के साथ पिछले महीने ही किया है। भारत उसका दूसरा टार्गेट है। इस तरह UAE और भारत में एकसाथ एयर टैक्सी सेवा साल 2026 में शुरू होने के आसार बन गए हैं। भारत में यह सेवा सबसे पहले दिल्ली से शुरू होकर मुंबई और बेंगलुरु पहुंचेगी। इसके बाद फिर किसी और शहर में इसकी शुरुआत होगी। दोनों कंपनियों का कहना है कि वे इस सेवा को ऑनरोड कीमत के साथ मैच करेंगे, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग इनका लाभ उठा सकें। क्योंकि ये इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी सड़क मार्ग से 60 से 90 मिनट में तय की जाने वाली दूरी अधिकतम सात-आठ मिनट में तय कर लेगी, ऐसे में यह जाम के झाम से मुक्ति का साधन बनेगी तो लोगों का समय भी बचेगा।
भाईसाब, आपको ये जानना जरूरी है कि आर्चर एविएशन इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक ऑफ और लैंडिंग विमान बनाती है। ये विमान पूर्ण रूप से पर्यावरण के अनुकूल हैं। यह एयर टैक्सी पायलट समेत 5 लोगों को एकसाथ लेकर 160 किलो मीटर तक उड़ सकती है। भारत में यह सेवा 200 एयर टैक्सी से शुरू करने का इरादा दोनों कंपनियां रखती हैं। कंपनी इनका इस्तेमाल चार्टर, लॉजिसटिक्स, मेडिकल इमरजेंसी आदि के लिए भी करने की योजना है। भाईसाब ‘मिडनाइट’ नामक यह इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक-ऑफ और लैंडिंग विमान एक गेम-चेंजर है। यह भारत के सबसे भीड़भाड़ वाले शहरों: दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु में परिचालन शुरू करेगा। इसमें आधी रात को भी सवारी की जा सकेगी। भारत में इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी मंजूरी के अधीन है। कंपनी का कहना है कि दिल्ली के कनॉट प्लेस से गुरुग्राम की 27 किलोमीटर की यात्रा, जिसमें सड़क मार्ग से लगभग 60 से 90 मिनट लगते हैं, इंटरग्लोब-आर्चर उड़ान पर लगभग 7 मिनट लगेंगे।
भाईसाब, इसके एक विमान में चार लोगों के बैठने की क्षमता होगी। यानी, यह 4-सीटर एयर टैक्सी होगी। इसके लिए किसी रनवे की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। यह हेलीकॉप्टर की तरह वर्टिकल टेकऑफ और लैंडिंग कर सकेंगे। आर्चर दावा करती है कि उसके विमान 240 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से 160 किलोमीटर तक की दूरी तय करने में सक्षम है। इन टैक्सियों का लक्ष्य ट्रैफिक को कम करते हुए शहरी मुख्य इलाकों को उपनगरों से जोड़ना है। एयर टैक्सियां लगभग 1,000 से 2,000 फीट की ऊंचाई पर 180 मील प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती हैं, लेकिन नासा की मानें तो ये 5 हजार फीट की ऊंचाई तक जा सकती हैं। इन विमानों की खासियत ये है कि इन्हें आधी रात में चलाया जा सकता है। इन्हें ज्यादा चार्ज नहीं करना पड़ता और इनसे बैक-टू-बैक उड़ाने भरी जा सकती हैं। भाईसाब, बता दें भारत दुनिया में ईवीटी ओएल विमानों के उपयोग के लिए सबसे बड़े अवसरों में से एक है, क्योंकि ये देश 1।4 बिलियन से अधिक लोगों के साथ दुनिया की सबसे बड़ी आबादी का घर है। इसके साथ ही दिल्ली, मुंबई और बैंगलोर जैसे इसके सबसे बड़े शहर दुनिया में सबसे बड़ी भीड़भाड़ वाली चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो इंडिगो फिलहाल 63 प्रतिशत से अधिक की घरेलू बाजार हिस्सेदारी के साथ देश की सबसे बड़ी एयरलाइन है। इसके पास ऑर्डर पर लगभग 970 विमान हैं।
भाईसाब, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत ने पहली बार बेंगलूरू में इसी साल आयोजित एयरो इंडिया शो में इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी देखा। यह टैक्सी 160 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दो सौ किलो मीटर तक यात्रा कर सकती है। दो सीटर यह टैक्सी दो क्विंटल सामान भी कैरी कर सकती है। इसी के साथ भारत में एयर टैक्सी सेवा शुरू होने की चर्चा होने लगी थी। वहीं, चीन ने पिछले महीने एयर टैक्सी संचालन को अनुमति दे दी है। एहांग नामक कंपनी को चीनी सरकार ने यह अनुमति दी है। दो सीटर यह एयर टैक्सी केंद्रीयकृत कमांड द्वारा संचालित होगी। इसकी अधिकतम स्पीड 128 किलो मीटर प्रतिघंटा है। यह इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी एकबार चार्ज होने पर 30 किलो मीटर तक चल सकेगी। चीन इसे दो सौ किलोमीटर प्रति घंटा करने पर काम कर रहा है। इसके अलावा ओलंपिक गेम्स 2024 की मेजबानी करने वाले देश फ्रांस ने भी इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी शुरू करने का दावा किया है। शुरू में इसका इस्तेमाल पेरिस के हवाई टर्मिनल के बीच चलाया जाएगा। बाद में इसे मेडिकल जरूरत के लिए इस्तेमाल करने की योजना है। यह भी दो सीटर एयर टैक्सी है, जिसमें एक पायलट और एक यात्री सफर कर सकेंगे। पेरिस एयरपोर्ट ऑपरेटर ग्रुप की मंशा है कि वे एक बाद एयर टैक्सी नेटवर्क तैयार करें।
भाईसाब, टैक्सी संचालक कंपनी उबर ने साल 2018 में देश में एयर टैक्सी संचालन की घोषणा की थी वह भारत में साल 2025 तक एयर टैक्सी सेवा शुरू करेगी। प्लान के मुताबिक दिल्ली, मुंबई और बैंगलुरु जैसे शहरों में पहले इसे शुरू करना है। उबर एविएशन के एरिक ने कहा था कि सबसे पहले 2023 में वे अमेरिका के दलास और लॉस एंजेलिस में अपनी सेवा शुरू करेंगे। फिर भारत, आस्ट्रेलिया, जापान, फ्रांस और ब्राजील में यह सेवा धीरे-धीरे शुरू करेंगे। साल 2022 में यूनाइटेड अरब अमीरात में चीन ने भी एयर टैक्सी का परीक्षण किया था। पर, अब आर्चर एविएशन समझौता करने में आगे निकल गया। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने साल 2021 में देश की पहली एयर टैक्सी सेवा चंडीगढ़ से हिसार के बीच शुरू की थी। इसे बाद में अन्य मार्गों पर विस्तार दिया जाना था पर, यह सेवा छोटे विमान के जरिए शुरू की गई थी।
भाईसाब, इन एयर टैक्सियों के किराए की बात करें तो शुरुआत में इसके ज्यादा होने की उम्मीद है। अनुमानित तौर पर ये किराया भारतीय रुपयों में 29 से 30 हजार तक हो सकता है, लेकिन बाद में प्रयोग सफल होने पर और भारतीय बाजार को देखते हुए इसके कम होने की भी उम्मीदें हैं। हालांकि एयर टैक्सी की सुविधा से कई फायदे नजर आ रहे हैं जैसे लोगों के समय में बचत होगी और ट्रैफिक में भी कमी देखने को मिलेगी।
भाईसाब, इस तरह यह कहा जा सकता है कि दुनिया में एयर टैक्सी सेवा अभी शुरुआती दौर से गुजर रही है। लेकिन अब तक की विकास यात्रा से उम्मीद बन गई है कि आने वाले वर्षों में दुनिया के तमाम शहरों में इलेक्ट्रिक एयर टैक्सी आसमान में उड़ती हुई दिखेंगी। भाईसाब, ये थी जानकारी एयर टैक्सी की, आशा करते हैं यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी, ऐसी ही अन्य रोचक विषय के लिए जुड़े रहें भाईसाब के साथ, धन्यवाद!

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.