Home Latest भारत के हरित क्रांति जनक : MS स्वामीनाथन । MS Swaminathan |

भारत के हरित क्रांति जनक : MS स्वामीनाथन । MS Swaminathan |

0 comment

भारत के हरित क्रांति के जनक कहे जाने वाले कृषि वैज्ञानिक MS स्वामीनाथन जी ने 28 SEP को 98 साल की उम्र में उनके चेन्नई स्थित आवास में जीवन कि आखरी सांस ली । MS स्वामीनाथन (मनकोम्बु संबासिवन स्वामिनाथन ) जी का जन्म 7 अगस्त १९२५ को तमिलनाडु के कुम्भकोणम में हुआ। 1966 में मैक्सिको के बीजों को पंजाब की घरेलू किस्मों के साथ मिश्रित करके, उच्च उत्पादकता वाले गेहूं के संकर बीज विकसित किए। स्वामीनाथन जी को विज्ञान और अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन् 1967 में पद्म श्री, 1972 में पद्म भूषण और 1989 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया , यही नहीं बल्कि लंदन की रॉयल सोसायटी सहित विश्व की 14 प्रमुख विज्ञान परिषदों ने MS स्वामीनाथन को अपना मानद सदस्य चुना था।
‘हरित क्रांति’ कार्यक्रम के तहत ज़्यादा उपज देने वाले गेहूं और चावल के बीज ग़रीब किसानों के खेतों में लगाए गए थे। इस क्रांति ने भारत को दुनिया में खाद्यान्न की सर्वाधिक कमी वाले देश के कलंक से उबारकर 25 वर्ष से कम समय में आत्मनिर्भर बना दिया था। उस समय से भारत के कृषि पुनर्जागरण ने स्वामीनाथन को ‘कृषि क्रांति आंदोलन’ के वैज्ञानिक नेता के रूप में ख्याति दिलाई। उनके द्वारा सदाबाहर क्रांति की ओर उन्मुख अवलंबनीय कृषि की वकालत ने उन्हें अवलंबनीय खाद्य सुरक्षा के क्षेत्र में विश्व नेता का दर्जा दिलाया।
भारत के ऐसे महान वैज्ञानिक को शत: शत: प्रणाम !

ऐसेही लेटेस्ट अपडेट्स के लिए जुड़े रहिये भाईसाब के साथ।

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.