Home Latest दिमागी बुखार, मानसून के दौरान होने का होता है सबसे ज्यादा खतरा। Bhai Saab

दिमागी बुखार, मानसून के दौरान होने का होता है सबसे ज्यादा खतरा। Bhai Saab

0 comment

गोरखपुर एन्सेफेलाइटिस एक जानलेवा रोग है जो मुख्य रूप से शिशुओं और बच्चों को प्रभावित करता है। यह एक बुखार और मस्तिष्क में सूजन के साथ आने वाला एक वायरल रोग है, जो बच्चों के मस्तिष्क के कुछ हिस्सों को प्रभावित कर सकता है, जिससे उनकी शारीरिक और मानसिक विकास में समस्याएँ हो सकती हैं।

यह रोग प्राथमिकता से गरीब और असहाय समुदायों में दिखाई देता है, खासकर उन जगहों में जहां स्वच्छता और हाइजीन की स्तर में कमी होती है। बच्चों की कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के कारण, वे इस वायरस से आसानी से प्रभावित हो सकते हैं।

गोरखपुर एन्सेफेलाइटिस के प्रमुख लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, मस्तिष्क में सूजन, उलझन, उल्टियाँ, और गंधगर्भितता शामिल हैं। अधिकांश मामलों में, इसका उपचार अस्पताल में होता है, जहां रोगी की स्थिति की गहराई की जा सकती है और उचित उपचार दिया जा सकता है।

इस रोग की रोकथाम के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम स्वच्छता, साफ पानी और हाइजीन की सुरक्षा को मजबूत करने के हैं, साथ ही स्थानीय समुदायों को इस रोग के प्रति जागरूक करने का प्रयास भी करना आवश्यक है। शिक्षा और जागरूकता के माध्यम से ही हम इस खतरे को समझ सकते हैं और इसकी रोकथाम के उपायों को अपना सकते हैं।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.