Home Latest दिल्ली की राजनीति में ED का खेल | Delhi Liquor Scam |

दिल्ली की राजनीति में ED का खेल | Delhi Liquor Scam |

0 comment

क्या दूध के धुले हैं केजरीवाल ?
भाईसाब…एक कहावत है “काजल की कोठरी में कैसो ही सयानो जाय एक लीक काजल की लागे है तो लागे है” अर्थात आप चाहे कितने ही दूध के धुले क्यों न हों, गलत जगह या गलत संगति में जायेंगे तो असर तो होगा ही…
– ये कहावत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर बिल्कुल फिट बैठती है क्योंकि कभी ईमानदार नौकशाह रहे केजरीवाल ने जबसे अन्ना आंदोलन के सहारे राजनीति में एंट्री मारी है तब से विवादों के साथ उनका गहरा नाता रहा है। और अब वह ED के शिकंजे में आ गये हैं। तो भाईसाब…दिल्ली शराब घोटाले को लेकर नये सिरे से दिल्ली की राजनीति में बवाल जारी है। इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच सियासी जंग चरम पर है। वहीं मनीष सिसोदिया की जमानत याचिका खारिज होने के बाद ईडी ने सीएम अरविंद केजरीवाल को समन जारी कर 2 नवंबर 2023 को पूछताछ के लिए कॉल किया।
आज के इस लेख में बात करेंगे दिल्ली शराब घोटाले की और दिल्ली की राजनीति में ED के खेल को परखेंगे और जानेंगे दिल्ली शराब घोटाले पर मचे राजनितिक घमासान के बारे में….

भाईसाब।।।बात उन दिनों की है जब दिल्ली सरकार ने 17 नवंबर 2021 को नई आबकारी नीति लागू करके सरकार के राजस्व में इजाफा होने का दावा किया था। हालांकि, जुलाई 2022 में दिल्ली के तत्कालीन मुख्य सचिव ने आबकारी नीति में अनियमितता होने के संबंध में एक रिपोर्ट उपराज्यपाल वीके सक्सेना को सौंपी थी। इसमें नीति में गड़बड़ी होने के साथ ही तत्कालीन उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पर शराब कारोबारियों को अनुचित लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया गया था। इस रिपोर्ट के आधार पर उपराज्यपाल ने नई आबकारी नीति के क्रियान्वयन में नियमों के उल्लंघन का हवाला देकर 22 जुलाई 2022 को CBI जांच की सिफारिश की थी। इस पर CBI ने FIR की थी और CBI की प्राथमिकी के आधार पर ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था….और भाईसाब यही से शुरू हुआ था ED का खेल….
– भाईसाब।।इस मामले में दिल्ली सरकार के मंत्री फंसते टले गये। CBI और ED का आरोप है कि आबकारी नीति को संशोधित करते समय अनियमितता की गई थीं और लाइसेंस धारकों को अनुचित लाभ दिया गया था। इसमें लाइसेंस शुल्क माफ या कम किया गया था। इस नीति से सरकारी खजाने को 144।36 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। मामले में जांच की सिफारिश करने के बाद 30 जुलाई 2022 को दिल्ली सरकार ने नई आबकारी नीति को वापस लेते हुए पुरानी व्यवस्था बहाल कर दी थी। घोटाले से जुड़े इस मामले में दिल्ली सरकरा के मंत्री मनीष सिसोदिया को निचली अदालत से लेकर हाई कोर्ट तक राहत नहीं मिली।
– भाईसाब।।बताना जरूरी है कि हाल ही में ED ने आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह के सरकारी आवास पर छापा मारा। 10 घंटे तक तलाशी ली और पूछताछ की। उसके बाद संजय सिंह को गिरफ्तार किया। मनीष और संजय दोनों ही आम आदमी पार्टी के बड़े नेताओं में से हैं और दोनों ही अब जेल में हैं। मनी लांड्रिंग मामले में ईडी की तरफ से दाखिल आरोपपत्र और दो पूरक आरोपपत्र में आरोपियों की संख्या 25 हो चुकी है। भ्रष्टाचार के मामले में सीबीआई ने अब तक मनीष सिसोदिया, विजय नायर, अभिषेक बोइनपल्ली समेत अन्य को गिरफ्तार किया। जबकि ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मनीष सिसोदिया, संजय सिंह समेत अन्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इससे पहले ईडी ने 30 मई, 2022 को एक अलग मनी लॉन्ड्रिंग मामले में दिल्ली के तत्कालीन मंत्री सत्येन्द्र जैन को गिरफ्तार किया था।
— और अब भाईसाब, खुद को ईमानदार बताने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री भी इस मामले में फंस चुके हैं। अब ED ने उन्हें पूछताछ के लिए 2 नवंबर को बुलाया है। माना जा रहा है कि केजरीवाल गिरफ्तार भी हो सकते हैं। दरअसल, अप्रैल 2023 में CBI ने दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ सबूत होने का दावा किया था। उस समय केंद्रीय जांच ब्यूरो ने कहा था कि सबूत के आधार पर ही उन्हें समन जारी किया गया है। सीबीआई ने दावा किया था कि दो प्रमुख गवाहों ने सीबीआई को जानकारी दी थी कि अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में आबकारी नीति की ड्राफ्ट कॉपी आबकारी अधिकारी को दी गई, जिसे बाद में लागू की गई। दूसरी तरफ प्रवर्तन निदेशालय की ओर से अदालत में दायर चार्जशीट के मुताबिक दिल्ली के सीएम ने लिकर ट्रेडर आबकारी नीति घोटाले के मुख्य आरोपी समीर महेंद्रू से फेसटाइम पर बात की थी। उन्होंने आप के संचार प्रभारी विजय नायर पर भरोसा करने को कहा। ईडी ने कहा कि 12 नवंबर और 15 नवंबर 2022 को पूछताछ के दौरान समीर महेंद्रू ने अधिकारियों को बताया था कि विजय नायर ने अरविंद केजरीवाल के साथ उनकी मुलाकात तय की थी, लेकिन बात नहीं बनी। इस मामले में ED ने यह भी बताया था कि अरविंद केजरीवाल ने शराब के कारोबार के सिलसिले में आंध्र प्रदेश के एक सांसद मगुनता श्रीनिवासलु रेड्डी से मुलाकात की थी।
– वहीं, सीएम अरविंद केजरीवाल ने CBI से पूछताछ के बाद अप्रैल 2023 में कहा था कि शराब घोटाला फर्जी है। CBI ने जितने सवाल पूछे, मैंने सभी के जवाब दिए। हमारे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है। सीएम ने कहा था कि शराब घोटाला झूठ है। फर्जी और गंदी राजनीति से प्रेरित है। AAP कट्टर ईमानदार पार्टी है। हम मर-मिट जाएंगे पर कभी अपनी ईमानदारी के साथ समझौता नहीं करेंगे। विरोधी लोग AAP को खत्म करना चाहते हैं, लेकिन देश की जनता हमारे साथ है।
– दूसरी ओर भाजपा का कहना है कि सत्य की जीत हमेशा होती है। जब से यह घोटाला सामने आया था, हम पहले दिन से कह रहे थे कि इस पूरे घोटाले के सूत्रधार अरविंद केजरीवाल हैं।
-तो भाईसाब….आपको क्या लगता है…क्या वाकई ईमानदारी का ढोंग करने वाले अरविंद केजरीवाल दागदार है !? ये तो आने वाला समय ही बताएगा….तो ये थी खास जानकारी दिल्ली शराब घोटाले की….आशा करते है आपको यह जानकारी जरूर पसंद आई होगी, ऐसी अन्य ख़बरों के लिए जुड़े रहें भाईसाब के साथ…. धन्यवाद!

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.