Home Gali Nukkad भारत में प्रतिबंधित कुत्तों की नस्लें | Banned Dog Breeds in India

भारत में प्रतिबंधित कुत्तों की नस्लें | Banned Dog Breeds in India

0 comment
Banned Dog Breeds in India

भाईसाब, इंसान को इंसानों के अलावा बाकि प्राणियों से काफी लगाव होता है। ज़िन्दगी के खालीपन को दूर करने और खुद को व्यस्त रखने के लिए इंसान पशु-पक्षियों और अन्य प्राणियों को अपने साथ रखते हैं। सबसे आम पालतू जानवर जो आजकल किसी भी स्थान पर पा सकते हैं वह है कुत्ते, कुत्ते इंसान के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं और शायद इसीलिए जब किसी विदेशी नस्ल के कुत्ते के लिए मोटी रकम खर्च करने की बात आती है तो लोग शायद ही कभी दो बार सोचते हैं। मगर अब श्वान प्रेमियों के लिए बड़ी खबर सामने आरही है, हाल ही में कुत्तों के हमले के बढ़ते cases को देखते हुए , केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को पत्र लिखकर कुछ कुत्तों की नस्लों के आयात, बिक्री और प्रजनन पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा, जिन्हें भारत में खतरनाक माना जाता है।

भाईसाब, कुत्तों की ये नस्लें न केवल खतरनाक होती हैं, बल्कि इनका हमला इंसानों की मौत का कारण भी बन सकता है। पिछले कुछ वर्षो में हमलो की संख्या तेज़ी से बढ़ी है और कई घटनाएं कैमरा में कैद भी हुई है। इससे पहले, पशुपालन और डेयरी विभाग ने ऐसे हमलो से निपटने के लिए हितधारकों और विशेषज्ञों को शामिल करते हुए एक समिति का गठन किया था। समिति ने मिश्रित और क्रॉस नस्लों सहित कुत्तो की २३ नस्लों की पहचान की जो संभावित रूप से आक्रमक और मनुष्य के लिए खतरनाक है।

भाईसाब, सूत्रों से पता चला है की दिल्ली के अलावा देश के अन्य राज्यों में विदेशी नस्ल के कुत्तो की खरीद-फरोख्त का बड़ा बाजार है। इन कुत्तो की कीमत लाखों में होने के कारण देश में विदेशी कुत्तो की नस्ल तैयार कर उन्हें बेचकर मोटा मुनाफा कमाया जा रहा है इसलिए कुत्तो की खरीद-फरोख्त का लाइसेंस नहीं दिया जाएगा। जिन्होंने इन प्रतिबंधित नस्ल के कुत्ते पाले हुए है, अब उनका क्या होगा? इस सवाल के जवाब में अधिकारी ने बताया कि कुत्तो के मालिक को अब अपने कुत्ते की नसबंदी करानी होगी जिससे उसकी आगे ब्रीडिंग न हो सके।

भाईसाब, लेकिन कुछ श्वान प्रेमियों के इस निर्णय के सख्त खिलाफ है। सोसाइटी फॉर एनिमल एड की संस्थापक अर्चना नायडू कहती हैं, केंद्र का निर्णय डेटा पर आधारित नहीं है और आवेगपूर्ण है। वह कहती हैं कि “ऐसे हजारों पालतू माता-पिता हैं जिनके पास पहले से ही ये वंशावली नस्लें हैं। केंद्र उन पालतू कुत्तो के मालिकों के अधिकारों पर प्रतिबंध लगाने की योजना कैसे बना रहा है जो अपने पालतू जानवरों की संतान चाहते हैं? क्या केंद्र यहां रहने वाले सभी मौजूदा पालतू जानवरों को इच्छामृत्यु देने का आदेश पारित करेगा?” इस स्टेटमेंट पर कई श्वान और प्राणी प्रेमियों ने सहमति जताई है।

banner

आइयें जानते हैं कौनसे नस्ल के कुत्तो को प्रतिबंधित किया गया है। पिटबुल टेरियर, टोसा इनु, अमेरिकन स्टैफोर्डशायर टेरियर, फिला ब्रासीलीरो, डोगो अर्जेंटीनो, अमेरिकन बुलडॉग, बोअरबोएल, कांगल, मध्य एशियाई शेफर्ड डॉग, कोकेशियान शेफर्ड डॉग, दक्षिण रूसी शेफर्ड, टॉर्नजैक, सरप्लानिनैक, जापानी टोसा और अकिता, मास्टिफ़्स, रॉटवीलर, टेरियर्स , रोडेशियन रिजबैक, वुल्फ कुत्ते, कैनारियो, अकबाश कुत्ता, मॉस्को गार्ड डॉग, और केन कोरसो .

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.