Home Gali Nukkad क्या बदायूं हत्याकांड की गुत्थी सुलझ पाएगी ? | Badaun Double Murder Mystery

क्या बदायूं हत्याकांड की गुत्थी सुलझ पाएगी ? | Badaun Double Murder Mystery

0 comment
Badaun Double Murder Mystery

भाईसाब, हाल ही में हुए बदायूं हत्याकांड ने उत्तर प्रदेश ही नहीं, पूरे देश को हिला कर रख दिया है, पुलिस अब तक ये पता नहीं लगा पाई कि आखिर बच्चों का कत्ल करने के पीछे हत्यारों का मकसद क्या था ?, ये सवाल का जवाब तब तक mystry बना रहेगा जब तक हत्या करने वाले खुद हत्या की कहानी को उगल नहीं देते, आपको बताना जरूरी है कि मर्डर का खुलासा नहीं होने के कारण कुछ दिन पहले नाराज मृत बच्चों के पिता ने अपनी बाइक को ही फूंक डाला, इस घटना से इलाके समेत प्रशासन में भी हडकंप मच गया है, बताया जा रहा है कि मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड की टीम ने आग पर काबू पाया और उसे फैलने से रोक दिया।

बीते 19 मार्च को 2 मासूम बच्चों की निर्मम हत्या के मामले में आरोपी साजिद को पुलिस ने मुठभेड़ में मार दिया था, वहीं दूसरे आरोपी जावेद ने surrender कर दिया था, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, आपको बताना जरूरी है कि बदायूं की बाबा कॉलोनी में 13 साल के आयुष और 6 साल के अहान की हत्या के मामले में लगातार पुलिस छानबीन कर रही है जांच में अब तक कोई ठोस कारण निकलकर नहीं आया है। भाईसाब, दूसरे आरोपी जावेद ने कुछ ऐसी बातें बताईं हैं, जिससे यह माना जा रहा है कि इस निर्मम हत्याकांड की वजह तंत्र क्रिया भी हो सकती है, हालांकि पुलिस अभी कई एंगल पर छानबीन कर रही है, वारदात स्थल के लिए आसपास के CCTV फुटेज खंगाले जा रहे हैं और तमाम लोगों से जानकारी लेने की कोशिश की जा रही है, पुलिस की अब तक छानबीन में नामजद दोनों आरोपियों के mobile call detail कॉल डिटेल भी निकलवाई है, उसमें अभी कोई ऐसा नंबर निकलकर सामने नहीं आया, जिससे पुलिस को कुछ लीड मिल सके, शुरुआती दौर में पुलिस ने जिहाद के एंगल पर भी मामले की छानबीन की लेकिन अभी इस पर कोई साक्ष्य नहीं मिल रहा है। भाईसाब, बता दें कि जावेद के आत्मसमर्पण करने के बाद उससे गहनता से पूछताछ की गई थी, उसने ही बताया था कि साजिद मानसिक रूप से बीमार था, बचपन में पिता उसको लेकर बड़ी ज़ियारत भी कर रहे थे, तब वह कुछ ठीक हो गया था लेकिन उसने बड़ी ज़ियारत, छोटी ज़ियारत और खेड़ा नवादा वाली ज़ियारत जाना नहीं छोड़ा था, साजिद बड़ी ज़ियारत पर जाकर वहां एक पेड़ पर अपनी बात लिखकर टांग देता था, उसकी छानबीन करने के लिए पुलिस बड़ी ज़ियारत भी गई लेकिन वहां किसी प्रकार की पर्ची नहीं मिली और न ही वहां किसी रजिस्टर में उसका नाम अंकित था। भाईसाब, आपको समझा दें कि जियारत का मतलब होता पवित्र स्थानों की यात्रा करना, तो भाईसाब, बता दे कि साजिद 5 जनवरी को खेड़ा नवादा में सागर ताल वाली ज़ियारत पर गया था, जावेद ने बताया था कि साजिद अपने मुंह से ब्लेड निकालता था और आंखों से सुइयां निकालता था, हालांकि पुलिस इसको सही नहीं मान रही है लेकिन इसको तंत्र-मंत्र से भी जोड़ा जा रहा है, पुलिस का कहना है कि इस दोहरे हत्याकांड की वजह तंत्र-मंत्र भी हो सकती है, इसकी छानबीन के लिए पुलिस पता कर रही है कि वह कहां-कहां जाता था, किस-किस से मिलता था और क्या करता था। भाईसाब, आपको बता दें मृत बच्चों के पिता विनोद कुमार और उनका परिवार अभी पुलिस कार्यवाही से संतुष्ट नहीं है, वो जानना चाहता है कि आखिर क्या वजह थी जो आरोपियों ने मासूमों की निर्मम तरीके से घर में घुसकर हत्या की वारदात को अंजाम दिया, वो लगातार पुलिस से वजह जानने की मांग कर रहे है।

भाईसाब, चलते-चलते आपको ये भी बताना जरूरी है कि इस दोहरे हत्याकांड के आरोपी साजिद दोनों बच्चों की हत्या करके जंगल की ओर भागा था, पुलिस भी उसके पीछे लगी थी, जंगल में उसे रोकने की कोशिश की गई थी लेकिन उसने पुलिस पर ही फायरिंग कर दी थी, जवाबी फायरिंग में साजिद मारा गया था, भाईसाब, हमारे देश में न जाने कितनी ही हत्याएं हुई, कुछ सुलझे और कुछ अब भी राज बने हुए हैं, ये सवाल हम आपके लिए छोड़े जाते हैं क्या बदायूं दोहरे हत्याकांड की पहेली सुलझ जाएगी या ये मर्डर मिस्ट्री भी मिट्टी में दफन होकर रह जाएगी है।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.