Home Gali Nukkad अमेरिका में क्यों हो रहे भारतीय छात्र शिकार | Attacks on Indian Students in America

अमेरिका में क्यों हो रहे भारतीय छात्र शिकार | Attacks on Indian Students in America

0 comment
Attacks on Indian Students in America

भाईसाब, आपको जानकर दुख होगा कि इस साल अमेरिका में भारत के कुल 5 छात्रों की संदिग्ध अवस्था में मृत्यु हुई है. 16 जनवरी 2024 को अल्बामा यूनिवर्सिटी के छात्र विवेक सैनी के सिर में 50 बार हथोड़ा मार कर हत्या की गई थी, 20 जनवरी 2024 को इलेनॉय यूनिवर्सिटी के छात्र अकुल धवन का शव बर्फ में जमा हुआ मिला और इसके 8 दिन बाद यानी 28 जनवरी 2024 पडर्यू यूनिवर्सिटी के छात्र नील आचार्य का शव भी इसी अवस्था में मिला, इसलिए यह प्रश्न महत्वपूर्ण हो जाता है कि क्या कुछ लोगों के लिए विख्यात अमेरिकन ड्रीम दु:स्वप्न बन गया है?

भाईसाब, बात केवल इतनी सी नहीं है, हालांकि अमेरिका में कुछ छात्रों की मौत के कारणों को समझाया जा सकता है, लेकिन कुछ के बारे में यह आरोप भी सही है कि नस्लीय भेदभाव की वजह से पुलिस ईमानदारी से जांच नहीं करती है, विशेषकर इसलिए कि इन हादसों को मीडिया में ‘पर्याप्त’ कवरेज नहीं मिलता है। भाईसाब, बहुत ही अफसोस इस बात को लेकर भी है कि इंसाफ के लिए अमेरिका में भारतीय मूल के लोग अक्सर विरोध-प्रदर्शन भी नहीं करते हैं, वहीं अमेरिकी पुलिस भारतीय मूल के छात्रों के मामले में उदासीन रहती है, जाहिर है उनकी उपेक्षा करती है, समस्या यह है कि भारतीय छात्रों व उनके परिवारों के लिए बोलने वाला कोई नहीं है। भाईसाब, वहां की पुलिस कहती है ‘अरे, नहीं, किसी गड़बड़ी का कोई संदेह नहीं है’ और मामले को वहीं बंद कर दिया जाता है, केस बंद, सवाल उठता है कि भारतीयों के साथ अन्य समुदायों जैसा व्यवहार क्यों नहीं किया जाता? जब अमेरिकी नागरिकों के बच्चे लापता होते हैं तो राष्ट्रीय खबर बन जाती है, हर जगह बस एक ही चर्चा रहती है, लेकिन जब भारतीय बच्चों की बात आती है तो अगर खबर स्थानीय टीवी चैनल पर भी आ जाये तो खुद को किस्मत का धनी समझा जाये। भाईसाब, हाल ही में अमेरिका में भारतीय छात्रों ने कहा कि उन्हें हमेशा स्थिति के प्रति सचेत रहना पड़ता है और उन्हें अकेले यात्रा करने में डर लगता है, एक अध्ययन से पता चला है कि अमेरिका में भारतीय छात्रों को “उच्च स्तर की चिंता” है, और उनमें से अधिकांश अपनी शारीरिक सुरक्षा और अवांछित होने की भावना के बारे में चिंतित हैं। भाईसाब, सवाल उठता है कि किन वजहों से भारतीय छात्रों पर हमले किये जा रहे है ? बता दें कि ज्यादातर भारतीय छात्र पढ़ाई के साथ पार्ट टाइम जॉब भी करते हैं, जब वे काम से देर रात लौटते हैं तो लूटपाट के इरादे से इन पर हमला होता है, दूसरा, एक बड़ा कारण ड्रगिस्ट हैं, उन्हें लगता है कि भारतीय छात्रों के पास पैसा हो सकता है और वे इन्हें आसानी से अपना निशाना बना सकते हैं, वहीं, बेरोजगार अमेरिकी युवाओं को लगता है कि भारतीय छात्र उनकी नौकरियों पर कब्जा कर लेंगे, इस आशंका में भी भारतीय छात्रों पर हमले होते हैं।

चलते-चलते, भाईसाब, आपको बता दें कि अमेरिका में भारतीयों पर बढ़ रहे हमलों को लेकर भारत सरकार भी चिंतित हैं, दूसरी ओर तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी ने एलान किया उनकी सरकार अमेरिका और अन्य देशों में रह सभी युवाओं की मदद के लिए हेल्प डेस्क बनाएगी, ताकि छात्रों की हरसंभव मदद की जा सके, दूसरी ओर अमेरिका में समुदाय के एक प्रमुख नेता ने दावा किया है कि उनका संगठन प्रतिदिन कम से कम एक ऐसे दुखद मामले से निपट रहा है, साथ ही, उन्होंने भारतीय प्रवासियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उनमें जागरूकता फैलाने की आवश्यकता पर जोर दिया है।

banner

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.