Home Mahanubhav भारत के एक कर्तृत्ववान सन्यासी नेता : योगी आदित्यनाथ |UP CM Yogi Adityanath |

भारत के एक कर्तृत्ववान सन्यासी नेता : योगी आदित्यनाथ |UP CM Yogi Adityanath |

by bs_adm_019
0 comment

आज हम एक ऐसे सख्सियत की बात करेंगे जो 1998 में देश के सबसे युवा लोकसभा मेंबर बने, गायों की रक्षा के लिए हिन्दू युवा वाहिनी नाम से एक संस्था बनायीं और 2005 में धर्मपरिवर्तन के खिलाफ घर वापसी नाम से अभियान चलाया
भाई साब! नमस्कार, आज हम बात करेंगे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्य नाथ जी महाराज के बारे में

परिचय –
वैसे तो महाराज जी का जन्म 5 जून 1972 में उत्तरप्रदेश के पूरी गढ़वाल जिले में हुआ लेकिन सं 2000 में राज्य बंटवारे के बाद यह जिला उत्तराखंड में आ गया और महाराज जी उत्तराखंड वासी हो गए

योगी आदित्यनाथ का योगी बनने से पहले का नाम अजय मोहन बिष्ट था पिता जी का नाम आंनद सिंह बिष्ट और माता का नाम सावित्री देवी बिष्ट उनकी शुरआती पढ़ाई गढ़वाल जिले से हुआ और हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय से गणित में स्नातक की डिग्री 1993 में पूरी की। योगी आदित्यनाथ खेल खुद में भी अपने स्कूल के दिनों से बैडमिंटन व स्विमिंग में दिलचस्पी रखते थे

आध्यात्मिक यात्रा
राजनीति में प्रवेश करने से पहले, योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में एक हिंदू मंदिर गोरखनाथ मठ से जुड़े थे।
अपने आध्यात्मिक गुरु महंत अवैद्यनाथ की मृत्यु के बाद १९९४ में वे मंदिर के मुख्य पुजारी बने।
योगी आदित्यनाथ मंदिर और उससे जुड़े संगठनों के भीतर सामाजिक और शैक्षिक गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल थे। और गौ रक्षा के लिए लिए हिन्दू युवा वाहिनी नाम से एक संगठन बनाया

banner

राजनैतिक जीवन-
1998 में, योगी आदित्यनाथ ने अपना पहला संसदीय चुनाव लड़ा और गोरखपुर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा में एक सीट जीती। उन्होंने बाद के चुनाव जीतना जारी रखा और 2017 तक लगातार पांच बार गोरखपुर से संसद सदस्य के रूप में कार्य किया।
मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, योगी आदित्यनाथ ने विभिन्न विकास पहलों की शुरुआत की है। इनमें प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, और नमामि गंगे परियोजना शामिल हैं।
18 मार्च, 2017 को बीजेपी द्वारा उत्तर प्रदेश का चुनाव सबसे अधिक मतों से जीतने के बाद, उन्हें उत्तर प्रदेश के 22वें मुख्यमंत्री के रूप में एक नया पद दिया गया।

विवाद-
योगी आदित्यनाथ अपने ध्रुवीकरण वाले बयानों और घर वापसी जैसे मुद्दों कारण एक विवादास्पद व्यक्ति रहे हैं।
उन्हें धार्मिक और सांप्रदायिक मुद्दों पर अपनी टिप्पणी के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा, जिसे कुछ लोग विभाजनकारी मानते हैं।
हालाँकि, उनका एक महत्वपूर्ण फैन बेस भी है और कई लोग उन्हें एक मजबूत नेता के रूप में देखते हैं

राजनितिक गुरुओं के अनुसार आदित्यनाथ को 2024 में भारत के प्रधान मंत्री के संभावित उम्मीदवार के रूप में माना जा रहा है, बशर्ते वह कुछ मोर्चों पर काम करें।

आशा है की महोदय का यह परिचय आपको अच्छा लगा होगा जल्द मिलते है महोदय के अगले संस्करण में तब तक के लिए धन्यवाद!

 

You may also like

bhaisaab logo original

About Us

भाई साब ! दिल जरा थाम के बैठिये हम आपको सराबोर करेंगे देशी संस्कृति, विदेशी कल्चर, जलेबी जैसी ख़बरें, खान पान के ठेके, घुमक्कड़ी के अड्डे, महानुभावों और माननीयों के पोल खोल, देशी–विदेशी और राजनीतिक खेल , स्पोर्ट्स और अन्य देशी खुरापातों से। तो जुड़े रहिए इस देशी उत्पात में, हमसे उम्दा जानकारी लेने और जिंदगी को तरोताजा बनाए रखने के लिए।

Contact Us

Bhaisaab – All Right Reserved. Designed and Developed by Global Infocloud Pvt. Ltd.